‘बिहार के किसानों को ब्याजमुक्त ऋण क्यों नहीं दे रही सरकार?’

sushil-modi-12
फाइल फोटो

पटना : वरिष्ठ भाजपा नेता सुशील कुमार मोदी ने गुरुवार को एक बार फिर राज्य में कृषि रोड मैप को लेकर बिहार सरकार से सवाल किया है. उन्होंने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से दूसरे कृषि रोड मैप की विफलता पर श्वेत पत्र प्रकाशित करने की मांग की है.

सुशील मोदी ने कहा है कि तीसरे कृषि रोड मैप (2017-22) को अंतिम रूप देने के लिए शुक्रवार को किसान समागम का आयोजन कर मुख्यमंत्री विमर्श करेंगे. इस मौके पर मुख्यमंत्री को बताना चाहिए कि कृषि कैबिनेट को क्यों भंग कर दिया गया? दूसरा कृषि रोड मैप (2012-17) क्यों लक्ष्य से कोसों दूर रह गया? क्या सरकार दूसरे कृषि रोड मैप की विफलता पर श्वेत पत्र प्रकाशित करेगी?

sushil-modi-12

उन्होंने कहा कि 90 लाख मीट्रिक टन धान उत्पादन होने के बावजूद सरकार क्यों 18 मीट्रिक टन ही खरीद पाई? चुनावी साल में धान की खरीद पर 300 रुपये बोनस देने वाली सरकार दो वर्षों से बोनस क्यों नहीं दे रही है? कृषि यंत्रिकरण और डीजल अनुदान का आधे से ज्यादा पैसा सरकार क्यों नहीं खर्च कर पाई? फसल बीमा योजना के तहत खरीफ 2016 के लिए बीमा कम्पनियों को प्रीमियम की राशि सरकार क्यों नहीं दे पाई जिसके कारण बिहार के किसान 347 करोड़ की सहायता से वंचित हो गए? भाजपा शासित राज्यों की तरह सरकार बिहार के किसानों को ब्याजमुक्त ऋण क्यों नहीं उपलब्ध करा पा रही है?

मोदी ने आगे सवाल किया कि कृषि से संबंधित केन्द्रीय योजनाओं की आधी से अधिक राशि क्यों पड़ी रह गई? एक दर्जन केन्द्रीय परियोजनाओं व कृषि संस्थानों मसलन सब्जी अनुसंधान संस्थान, भारतीय बीज निगम, टिश्यू  कल्चर लैब, लीची अनुसंधान आदि के लिए सरकार जमीन क्यों नहीं उपलब्ध करा पाई?

यह भी पढ़ें –
केंद्र किसानों को दे रहा लाभ, राज्य सरकार भी करें उनकी चिंता : सुशील मोदी
‘अब फरार है राबड़ी देवी को जमीन गिफ्ट करने वाला ललन चौधरी’