चीनी मिल मजदूरों की लड़ाई में अब पप्‍पू यादव के साथ होंगे स्‍वामी अग्निवेश

pappu-agnivesh

पटना : दो मिल मजदूरों के आत्मदाह के बाद मोतिहारी के चीनी मिल मजदूरों की लड़ाई आगे बढ़ गई है . लड़ाई को अब नेशनल सपोर्ट मिलने लगा है . पिछले दिनों बेऊर जेल से छूटते ही मधेपुरा के सांसद पप्‍पू यादव आत्‍मदाह करने वाले मिल मजदूरों के घर गये थे . इसके बाद केन्‍द्रीय कृषि मंत्री राधामोहन सिंह भी पहुंचे .

सांसद पप्‍पू यादव ने आज मंगलवार को पत्रकारों से कहा कि वे मिल मजदूरों की लड़ाई को छोड़ने नहीं जा रहे हैं . दिल्‍ली आते ही उन्‍होंने स्‍वामी अग्निवेश से बातें की . वे आंदोलन में साथ आने को तैयार हो गये हैं . कार्यक्रम के मुताबिक 1 मई को श्रम दिवस के दिन मोतिहारी में चीनी मिल मजदूर यूनियन के साथ मिलकर विरोध दिवस का आयोजन किया जाएगा . जन अधिकार पार्टी की पूरी स्‍टेट यूनिट रहेगी .

pappu-agnivesh

उन्‍होंने कहा कि मजदूरों को मरने के लिए ऐसे छोड़ा नहीं जा सकता . आत्‍मदाह के लिए सीधे तौर पर चीनी मिल प्रबंधन जिम्‍मेवार है . सिर्फ मैनेजर की गिरफ्तारी से बात नहीं बनने वाली है . मालिक विनोद नोमानी को अरेस्‍ट करना होगा,जोकि अब भी इलाहाबाद में छुट्टा घुम रहे हैं .

उन्‍होंने कहा कि दोनों मजदूरों की मौत के लिए राज्‍य और केन्‍द्र सरकार बराबरी से जिम्‍मेवार है .

श्री यादव ने पूछा कि 2002 से चीनी मिल बंद है,फिर भी सरकार की मिलीभगत से बंदी की घोषणा नहीं की गई . ऐसा सिर्फ इसलिए किया गया क्‍योंकि बंदी की घोषणा के बाद प्रबंधन को कामगारों को सारा बकाया और अन्‍य लाभ देना होता . इस कारण बंद मिल में साल-दो साल में कभी एक-दो दिनों के लिए धुंआ निकाल दिया जाता था . उन्‍होंने नीतीश कुमार पर आरोप लगाते हुए कहा कि जीतन राम मांझी जब मुख्‍य मंत्री थे,तब किस्‍तों में कामगारों के बकाये के भुगतान का निर्णय किया गया था,पर इसे वर्तमान सरकार ने तामिल नहीं किया . नतीजा आर्थिक तंगी से परेशान मजदूर आत्‍मदाह करने को विवश हो गये .

उन्‍होंने कहा कि नीतीश कुमार को जबरन नील की खेती के विरोध के 100 साल पूरा होने का अवसर तो अपनी मार्केटिंग करने के लिए  याद रहा,पर वे मोतिहारी में रहकर भी आत्‍मदाह करने वाले मजदूरों के दर्द को भूल गये . केन्‍द्रीय मंत्री राधामोहन सिंह को याद तब आया,जब हम जेल से निकल सीधे मजदूरों के घर आंसू पोंछने और सहायता देने को पहुंचे . सांसद ने कहा कि अब इस लड़ाई को हम स्‍वामी अग्निवेश के साथ मिलकर बहुत आगे ले जायेंगे और मजदूरों को हक दिलाकर रहेंगे .