‘अफ़सोस कि बिहार में पैदा नहीं हुई, नीतीश से आज भी पुराने जैसे संबंध’

पटना : भारत सरकार की जल संसाधन मंत्री उमा भारती ने कहा है कि उनके और मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के संबंध आज भी वैसे ही हैं जैसे 2005 में थे. उन्होंने कहा कि मुझे अफसोस है कि मैं बिहार में पैदा नहीं हुई. बिहार के दौरे पर आई उमा भारती ने शुक्रवार को राजधानी पटना में ये बातें कहीं.

पटना में आज पत्रकारों से बात करते हुए जल संसाधन मंत्री उमा भारती ने सफाई दी कि 2018 तक गंगा की गाद ख़त्म करने जैसी कोई बात उन्होंने आज तक नहीं कही है. गंगा की सफाई संबंधी सभी काम अपने तय समय पर पूरे होंगे. भारती ने कहा कि गंगा की सफाई का काम सभी नदियों के लिए मॉडल बनेगा.

UMA

गुरुवार को नीतीश से हुई मुलाक़ात

इससे पहले मुंगेर में एक कार्यक्रम में भाग लेने के बाद गुरुवार को पटना पहुंचीं उमा भारती से मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने मुलाक़ात की. इस दौरान दोनों के बीच गंगा में गाद को हटाने और उसकी सफाई जैसे अहम् मुद्दों पर चर्चा भी हुई. बैठक गुरुवार देर शाम राजधानी स्थित स्टेट गेस्ट हाउस में हुई. इस बैठक में संबंधित अधिकारी और अन्य विशेषज्ञ भी मौजूद थे. मुख्यमंत्री नीतीश कुमार लगातार फरक्का बैराज और गंगा में गाद की समस्या को कई मंचों से उठाते रहे हैं. उनका मानना है कि बिहार में बाढ़ के लिए सबसे बड़ा कारण गंगा की लगातार घटती गहराई है.

मुंगेर में बनेगा ट्रीटमेंट प्लांट

उधर गुरुवार को मुंगेर के सोझी घाट स्थित गंगा चौपाल कार्यक्रम में उमा भारती ने कहा कि मुंगेर गंगा में बह रहे गंदे नाले पानी की व्यवस्था के लिए तीन सौ करोड़ की लागत से 27 एमएलडी सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट बनाए जाएंगे. इसके निर्माण के लिए राज्य सरकार को अनुमति के लिए प्रस्ताव भेजा जायेगा. उन्होंने कहा कि अगर राज्य सरकर जल्द अनुमति दे देती है तो एक साल के अंदर में मुंगेर में सीवरेज प्लांट का निर्माण किया जाएगा.

इस दौरान केंद्रीय मंत्री ने माना कि गंगा में सील्ट होने के कारण झारखण्ड, बिहार और उत्तर प्रदेश कष्ट में है. खासकर झारखंड और बिहार से होकर बहने वाली गंगा में सिल्ट के कारण बहुत ही कठिनाई होती है.

इसे भी पढ़ें –

इंटर काउंसिल के बाहर भूख हड़ताल पर बैठा छात्र, एआईएसएफ का मिला साथ

मीडिया व विपक्ष को जदयू का चैलेंज, गणेश से सभी विषयों के सभी सवाल पूछें

कैबिनेट की बैठक में नहीं पहुंचे तेजस्वी, चौधरी और तेजप्रताप, पोलिटिकल कॉरिडोर में फुसफुसाहट