महंगी पड़ी लापरवाही, 10 मजिस्ट्रेट और इतने ही पुलिस वालों पर होगी कार्रवाई

पटनाः छठ महापर्व की तैयारियों में पटना डिस्ट्रिक्ट एडमिनिस्ट्रेशन लगातार लगा हुआ है. तैयारियों में किसी प्रकार की कोई कमी न रहे, इस लिए डिवीजनल कमिश्नर आनंद किशोर हों या फिर डीएम संजय अग्रवाल. लगातार ये अधिकारी तैयारियों का रिव्यू कर रहे हैं. गंगा घाटों पर जाकर हर एक प्वाइंट पर गहनता से ध्यान दे रहे हैं. घांटों पर सिक्योरिटी को लेकर डीएम संजय अग्रवाल और एसएसपी मनु महाराज लगातार रिव्यू कर रहे हैं.
अपने रिव्यू के दौरान इन दोनों अधिकारियों ने एक बड़ी लापरवाही पकड़ी है. जो पब्लिक की सिक्योरिटी से जुड़ी है. दरअसल, गंगा घाट, आने-जाने के रास्ते और पार्किंग एरिया में पब्ल्कि की सिक्योरिटी का डिस्ट्रिक्ट एडमिनिस्ट्रेशन और पटना पुलिस की ओर से खास तौर पर ​डिटेल प्लान तैयार किया गया था.
इसी प्लान के तहत अलग-अलग प्वाइंट पर मजिस्ट्रेट और पुलिस वालों को तैनात किया गया है. लेकिन 20 पदाधिकारियों ने छठ महापर्व पर पब्लिक की सिक्योरिटी को हल्केे में ले लिया. जिस जगह पर उन्हें ड्यूटी लगाया गया था, उस जगह पर वो पहुंचे ही नहीं. डीएम और एसएसपी का आदेश को इन पदाधिकारियों ने माना ही नहीं. लापरवाही बरतने वालों में 10 मजिस्ट्रेट और 10 पुलिस वाले शामिल हैं. इनकी लापरवाही अब इनके लिए खुद महंगी साबित हो गई है.
डीएम और एसएसपी ने लापरवाही के इस मामले को काफी गंभीरता से लिया. डीएम ने 10 मजिस्ट्रेट के खिलाफ डिपार्टमेंट कार्रवाई के लिए आदेश दे दिया है. इसी तरह एसएसपी ने  लापरवाही बरतने वाले 10 पुलिस वालों खिलाफ कार्रवाई शुरू कर दी है. डिपाईटमेंट कार्रवाई के लिए उन्होंने भी लिखा है.