ब्लड कैंसर से जूझते इंजीनियर भाई की बहन ने बचा ली जान, पारस में हुआ ट्रांसप्लांट

पटना : राजधानी के पारस अस्पताल में बिहार का पहला एलीजेनिक ट्रांसप्लांट किया गया. इसमें बहन ने अपना स्टेम सेल डोनेट कर भाई की जान बचाई. भाई ब्लड कैंसर से जूझ रहा था. यह आॅपरेशन कर डॉक्टरों ने उन्हें नई जिंदगी दी है. वहीं डॉक्टरों का कहना है कि इसमें उनकी बहन का भी अहम योगदान है.

पटना के राजा बाजार में स्थित पारस एचएमआरआई सुपर स्पेशिलिटी हाॅस्पिटल में ब्लड कैंसर से जूझ रहे 25 वर्षीय इंजीनियर एडमिट था. स्टेम सेल ट्रांसप्लांट करनेवाले डाॅ. अविनाश कुमार सिंह ने बताया कि इंजीनियर बक्सर का रहनेवाला है. वह एएमएल (एक्यूट माइलाॅड ल्यूकेमिया) बल्ड कैंसर से पीड़ित था. लेकिन उनकी बहन ने स्टेम सेल देकर उन्हें नई जिंदगी दी है. बहन का स्टेम सेल लेकर भाई में बोन मैरो ट्रांसप्लांट किया गया. लगभग दो सप्ताह के बाद मरीज में खून का बनना शुरू हो गया और वह धीरे-धीरे स्वस्थ हो गया. अब युवक का कैंसर जड़ से समाप्त हो गया है.

डाॅ सिंह ने बताया कि एलीजेनिक ट्रांसप्लांट की प्रक्रिया से डोनर को डरने की जरूरत नहीं है. इसमें डोनर को न किसी प्रकार की प्रॉब्लम होती है और न ही इसका कोई साइड इफेक्ट है. उन्होंने बहन की तारीफ करते हुए कहा कि बहन ने स्टेम सेल देकर एक मिसाल कायम की है, वहीं डोनर बहन ने बताया कि उन्हें इस प्रक्रिया के दौरान किसी तरह की तकलीफ नहीं हुई और वह बिल्कुल स्वस्थ है. डाॅ सिंह के अनुसार खून से संबंधित तमाम बीमारियों मसलन बल्ड कैंसर, एप्लास्टिक एनीमिया, थैलीसिमिया, एमडीएस में बोन मैरो ट्रांसप्लांट काफी कारगर है.

यह भी पढ़ें – लालू प्रसाद ने CBI से फिर मांगी मोहलत, अब 5 को होगी पूछताछ
RING और EARRINGS की सबसे लेटेस्ट रेंज लीजिए चांद​ बिहारी ज्वैलर्स में, प्राइस 8000 से शुरू
PUJA का सबसे HOT OFFER, यहां कुछ भी खरीदें, मुफ्त में मिलेगा GOLD COIN
अभी फैशन में है Indo-Western लुक की जूलरी, नया कलेक्शन लाए हैं चांद बिहारी ज्वैलर्स
मौका है : AIIMS के पास 6 लाख में मिलेगा प्लॉट, घर बनाने को PM से 2.67 लाख मिलेगी ​सब्सिडी

(लाइव सिटीज मीडिया के यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)