झांसा देकर एड्स पीड़ित युवक से करायी शादी, पति की मौत होने पर देवर ने किया रेप

gangrape
प्रतीकात्मक फोटो

लाइव सिटीज डेस्क : लोग इतने ​गिर गये हैं कि न उन्हें भाई, बहन के रिश्ते याद आते हैं और न ही मां जैसी भाभी की कोई कद्र है. लोग अपने स्वार्थ में इतने वशीभूत हैं कि वे हितैषी होने का सिर्फ ढोंग रचते हैं. कुछ ऐसा ही मामला बिहार के सीवान का आया है. विधवा भाभी को झांसा देकर देवर रेप करता रहा.

जानकारी के अनुसार सीवान के असांव निवासी अनूप सिंह से रघुनाथपुर थाना क्षेत्र के गिरार गांव की रहनेवाली युवती से शादी हुई थी. यह शादी 22 नवम्बर 2010 को हुई थी. युवती की मानें तो उसकी शादी में बोलेरो समेत 10 लाख की संपत्ति ससुरालवालों को दी गयी थी.

लेकिन सबसे दुखद स्थिति यह थी कि शादी के समय ही युवती को झांसा दिया गया था. पति को एड्स था. इसकी जानकारी युवती को नहीं दी गयी थी. बाद में इसका खुलासा हुआ था तो काफी शॉक्ड हो गयी. वहीं बीमारी बढ़ जाने के कारण पति अनूप की 2014 में 26 दिसंबर को पटना में ही बीमारी से मौत हो गयी.

इसके बाद झांसा का एक और खेल शुरू हुआ. ससुराल वालों ने हमदर्दी और हितैषी होने का ढोंग करके देवर ने विधवा भाभी के साथ एक साल तक शारीरिक शोषण किया. इसके बाद जब विधवा ने विवाह करने का प्रेशर बनाया तो न सिर्फ देवर ही नहीं, ससुरालवालों ने मारपीट कर घर से भगा दिया.

पीड़िता ने इस संबंध में असांव थाने में आवेदन देकर इंसाफ की गुहार लगायी है. उन्होंने यह भी आरोप लगाया कि शादी में दी गयी बोलेरो गाड़ी और बीमा के सारे कागजात भी ससुराल वालों ने अपने नाम करा लिये. अब देवर से शादी के लिए दहेज मांगा जा रहा है. नहीं देने की बात पीड़िता ने की तो उसे घर से भगा दिया. इस संबंध में मामला दर्ज कर पुलिस कार्रवाई कर रही है.

यह भी पढ़ें- करवाचौथ पर Lover को दें Princess Cut Diamond, चांद बिहारी ज्वैलर्स लाए हैं नया कलेक्शन 
धनतेरस पर बेस्ट आॅफर दे रहे हैं हीरा-पन्ना ज्वैलर्स, Turkish जूलरी के साथ Gold Coin भी फ्री 
RING और EARRINGS की सबसे लेटेस्ट रेंज लीजिए चांद​ बिहारी ज्वैलर्स में, प्राइस 8000 से शुरू
PUJA का सबसे HOT OFFER, यहां कुछ भी खरीदें, मुफ्त में मिलेगा GOLD COIN
अभी फैशन में है Indo-Western लुक की जूलरी, नया कलेक्शन लाए हैं चांद बिहारी ज्वैलर्स
मौका है : AIIMS के पास 6 लाख में मिलेगा प्लॉट, घर बनाने को PM से 2.67 लाख मिलेगी ​सब्सिडी

(लाइव सिटीज मीडिया के यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)