राजभवन सख्त : 62 प्लस वाले प्राचार्यों पर आफत, कैसे किया 65 तक काम, वसूले जायेंगे वेतन

लाइव सिटीज डेस्क : कुछ प्राचार्यों पर आफत आनेवाला है. ये ऐसे प्राचार्य हैं, जिन्होंने रिटायर के बाद भी नौकरी की है. लेकिन अब एक्स्ट्रा टाइम में की गयी नौकरी पर सवाल उठने लगे हैं. इस पर राजभवन सख्त हैं. रिटायर के बाद नौकरी करने को लेकर शो कॉज पूछा गया है. राजभवन ने 10 अक्टूबर तक जवाब मांगा है.

दरअसल राज्य के विश्वविद्यालयों में रिटायर के बाद भी कई सालों तक कुछ प्राचार्यों ने नौकरी की है. सूत्रों की मानें तो वैसे प्राचार्यों को 62 की उम्र के बाद रिटायर होना था लेकिन उन्होंने 65 की उम्र तक नौकरी की. इस मामले को राजभवन ने गंभीरता से लेते हुए चिह्नित कॉलेजों से जवाब मांगा है.

राजभवन ने संबंधित विश्वविद्यालयों से 10 अक्तूबर तक जवाब देने का निर्देश दिया है. राजभवन ने यह भी पूछा है कि एक्ट के अनुसार जब प्राचार्यों को 62 साल की उम्र में रिटायर हो जाना था, तो 65 साल तक उन्होंने कैसे काम किया. विश्वविद्यालयों की ओर से जवाब आने के बाद इस पर बड़ी कार्रवाई हो सकती है. सूत्रों की मानें तो संबंधित प्राचार्यों से वेतन-पेंशन की वसूली हो सकती है.

सूत्रों के अनुसार इसके साथ ही संबंधित तत्कालीन कुलपतियों को भी नोटिस भेजा जा रहा है. इस मामले में अब तक 38 कॉलेजों के प्राचार्य चिह्नित किये गये हैं. ऐसे प्राचार्यों की संख्या 50 से ज्यादा होने की उम्मीद है. सूत्रों की मानें तो राजभवन ने साफ कहा है कि यह पूरा मामला अनियमितता, एक्ट का खुल्लम खुल्ला उल्लंघन है और आपराधिक भी है. इसमें प्राथमिकी भी दर्ज हो सकती है. हालांकि राजभवन को पहले जवाब का इंतजार है. उसके बाद इसमें कार्रवाई तय हो सकती है.

इसे भी पढ़ें :

मीडिया के सामने आए यशवंत सिन्हा, बोले नोटबंदी के बाद सदमे जैसा था GST का फैसला
मौका है : AIIMS के पास 6 लाख में मिलेगा प्लॉट, घर बनाने को PM से 2.67 लाख मिलेगी ​सब्सिडी
RING और EARRINGS की सबसे लेटेस्ट रेंज लीजिए चांद​ बिहारी ज्वैलर्स में, प्राइस 8000 से शुरू
चांद बिहारी अग्रवाल : कभी बेचते थे पकौड़े, आज इनकी जूलरी पर है बिहार को भरोसा
(लाइव सिटीज मीडिया के यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)