बक्सर जिलें के आमसारी गांव में बिजली की चिंगारी से हजारों एकड़ फसल जलकर राख, रो-रोकर किसानों का हुआ बुरा हाल

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क: बक्सर जिले में सैकड़ों किसान के आंखे आज आंसूयों से भर गए. एक छोटी सी बिजली की चिंगारी से हजारों एकड़ गेंहू के फसल जलकर राख हो गए. जिले के डुमरांव अनुमंडल के चौंगाई प्रखंड के आमसारी और मठिला गांव के सैकड़ों किसानों की सालों की मेहनत उनकी आंखों के सामने धु-धुकर जल गयी. आग से किसानों के खेतों में लगी पकी फसल पूरी तरह बर्बाद हो गई. इस घटना से पूरे गांव में सन्नाटा पसर गया है. सभी किसानों का रो-रोकर बुरा हाल है. अब तो उनके सामने ‘एक जून की रोटी’ भी कैसे मिलेगी इसकी चिंता सताने लगी है.

पूरे घटना क्रम की बात करें तो जिले के आमसारी गांव के बधार में हजारों एकड़ में लगी गेंहू की फसल तैयार थी. किसान अब फसल को काटकर अपने घर पर लाने की तैयारी में थे. इसी बीच खेतों से उपर गुजर रही हाईटेशन तार से गिरी चिंगारी ने किसानों के सपकों को धु-धुकर जला दिया. हालंकि की मौके पर दमकल की दो गाड़ियां पहुंची, लेकिन नाकाफी रहा. किसान अपने स्तर से आग पर काबू पाने की प्रयास करते रहें, लेकिन आग इतनी भयावह थी कि देखते ही देखते हजारों एकड़ में लगी फसल जलकर खाक हो गयी. किसानों की माने तो बिना पानी भरे ही दमकल की गाड़ी मौके पर पहुंच गयी थी. लेकिन आग की भयावहता को देखते हुए फरार हो गयी.

पीड़ित किसान राजेश्वर सिंह और रामकृष्ण सिंह की माने तो इस अगलगी से सबकुछ बर्बाद करके रख दिया. उन्होने अपनी बेटी की शादी इसी आस में तय कर रखी थी की. खेतों में लगी गेंहू की फसल बेच कर उस रकम में बेटी की शादी बड़े ही धुमधाम से करूंगा. लेकिन अब ऐसा संभंव नहीं हो सका. उन्होंने यह भी कहा कि अब तो उनके और उनके परिवार के लिए खाने पिने की भी समसेया उत्नन हो गयी है.

वहीं गांव के सैकड़ों किसान कि सिसकिया रूकने का नाम नहीं ले रहा है. किसान रामकृष्ण सिंह, राजेश्वर सिंह, अंटु सिंह, ललित सिंह, मोहन जी सिंह, अक्षएवर सिंह, पप्पू पाठक, अटल सिंह, गणेश सिंह, पप्पू सिंह, बरमेश्वर चौधरी, विश्वामित्र चोधरी, अनिल सिंह, मार्कंडेय सिंह, अमिरा चौधरी, सुरेश चौधरी, रमेश चौधरी, अयोध्या सिंह समेत गांव के सैकड़ों किसानों की फसल जलकर राख हो गयी है. किसानों की माने तो करीब करोड़ों की फसल जलकर राख हो गई. सभी की निगाहे अब सरकार की ओर टिकी है. गांव के सभी किसान सरकार से मुआवजे की मांग कर रहे हैं.