Rupesh Singh Murder Case : जाप सुप्रीमो पप्पू यादव का रूपेश सिंह हत्याकांड में बड़ा खुलासा; कहा- नेताओं, अधिकारियों और माफियाओं से जुड़े हैं तार

लाइव सिटीज, पटना : इंडिगो एयरलाइंस के स्टेशन मैनेजर रूपेश सिंह हत्याकांड में जाप सुप्रीमो पप्पू यादव ने सनसनीखेज आरोप लगाया है. कहा कि रूपेश की हत्या के तार बड़े-बड़े नेताओं, अधिकारियों और माफियाओं से जुड़े हुए हैं. खबरें आ रही हैं कि पीएचईडी और बिजली विभाग के ठेकों में रूपेश सिंह की संलिप्तता थी. दरभंगा में नहर का ठेका जिस कंपनी को मिला, उसमें भी रूपेश सिंह शामिल थे. इन्हीं कारणों की वजह से बड़े ठेकेदारों, नेताओं और अधिकारियों के इशारे पर रूपेश सिंह की हत्या करवाई गयी है. इसकी पूरी जांच निष्पक्ष तरीके से होनी चाहिए. रविवार को पप्पू यादव पार्टी कार्यालय में मीडिया को संबोधित कर रहे थे.

जाप सुप्रीमो ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से आग्रह करते हुए कहा कि अगर बिहार से अपराध को ख़त्म करना है तो शराब, जमीन और बालू से धन कमाने वालों की संपत्ति की जांच प्रवर्तन निदेशालय के द्वारा हो. इन धंधों से जुड़े सभी तस्करों और माफिया को जेल भेजा जाए. उन्होंने कहा कि बिहार में वर्तमान में जितनी बड़ी आपराधिक घटनाएं हो रही हैं, उन सभी के पीछे इन्हीं लोगों का हाथ है. अपराधियों को नेताओं और सरकारी पदाधिकारियों का संरक्षण प्राप्त है.



सरकारी विभागों में प्रशासनिक अनियमितता का आरोप लगाते हुए पप्पू यादव ने कहा कि वर्ष 2018 में बिहार स्टेट पावर होल्डिंग कॉर्पोरेशन लिमिटेड की ओर से पांच ऐसी महिलाओं को विदेश प्रशिक्षण के लिए भेजा गया, जो योग्य नहीं थीं. ये सब कॉर्पोरेशन के सीएमडी के इशारों पर हुआ. कटिहार में जिस आईएएस अधिकारी को डीएम बनाया गया, उन पर पहले से सीबीआई जांच चल रही थी. अब वे छुट्टी पर क्यों चले गए हैं? उन्हें जल्द से जल्द बर्खास्त किया जाए. नीतीश कुमार के शासन में सिर्फ भ्रष्ट अधिकारियों को बड़े पदों पर नियुक्त किया गया है.

शराब तस्करी पर बोलते हुए पप्पू यादव ने कहा कि शराबबंदी से पहले बिहार सरकार को 4 हज़ार करोड़ की आय शराब से होती थी. अब इससे दोगुना नेताओं और अधिकारियों को मिल रहा है. सरकारी तंत्र के जुड़े लोग ही सरकार की नाक के नीचे से शराब तस्करों की मदद रहे हैं. प्रेस कॉन्फ्रेंस में प्रदेश अध्यक्ष राघवेंद्र सिंह कुशवाहा, महासचिव प्रेमचंद सिंह, राजेश रंजन पप्पू, राजू दानवीर समेत पार्टी के अन्य नेता मौजूद थे.