निगरानी विभाग की बड़ी कार्रवाई, 1.50 लाख घूस लेते चिकित्सा प्रभारी एसके सुमन को किया गिरफ्तार

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क: राज्य में अपराध तरह_तरह का रूप धारण कर चुके हैं. कहीं लूट, तो कहीं हत्या. कहीं मासूम से दुष्कर्म तो कहीं नशीले पदार्थों की जमकर तस्करी. इसी तर्ज पर रिश्वतखोरी और भ्रष्टाचार के मामलों में भी मानों आग लग गया है. इस वक्त एक ताजा खबर खगड़िया जिले से सामने आ रही है, जहां निगरानी विभाग की टीम ने एक रिश्वतखोर डॉक्टर को अरेस्ट किया है. डेढ़ लाख रुपये घूस लेते हुए डॉक्टर रंगेहाथ गिरफ्तार किया गया है. इसके अलावा एक एक प्रधान लिपिक को भी अरेस्ट किया गया है. 

विजिलेंस की टीम ने बड़ी कार्रवाई करते हुए रिश्वतखोर डॉक्टर को गिरफ्तार कर लिया है. जिसके बाद विभाग में हड़कंप मच गया. बताया जा रहा है पटना से गई निगरानी विभाग की टीम ने डेढ़ लाख रुपये घूस लेते हुए चिकित्सा प्रभारी डॉ एसके सुमन को गिरफ्तार किया है. इस घटना के संबंध में जानकारी मिली है कि प्रधान लिपिक राजेन्द्र सिन्हा को भी विजिलेंस वालों ने दबोचा है, जो 30 हजार रिपाये घूस ले रहा था. 

 मिली जानकारी के मुताबिक परिचारिका के वेतन निकासी कराने को लेकर दोनों ने रिश्वत की मांग की थी. जिसकी शिकायत पीड़ित ने की थी. मामले की जानकारी मिलने के बाद निगरानी विभाग की टीम ने अपना जाल बिछाया और उन्होंने रिश्वतखोर डॉक्टर एसके सुमन और उसके एक अन्य साथी राजेन्द्र सिन्हा को पैसा लेते हुए रंगेहाथ गिरफ्तार कर लिया.