अरे जानते क्या हो जीविका समूह के बारे में? क ख ग घ मालूम नहीं, ये करेंगे वो करेंगे- नीतीश कुमार

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क: सीएम नीतीश कुमार लगातार चुनावी सभाएं कर रहे हैं. आज वे सहरसा के सिमरी बख्तियारपुर विधानसभा क्षेत्र पहुंचे. जहां उन्होंने वाईपी पार्टी के चीफ मुकेश सहनी के लिए लोगों से वोट की अपील की. साथ ही एनडीए की सरकार बनाने के दावा किया. सीएम ने कहा कि मुकेश सहनी कोरोना संक्रमित हैं, इसलिए उनके लिए हम आपसे बात करने आए हैं. हम तो यही कामना करते हैं कि वे जल्द ही बेहतर हो जाए.

बिहार के मुखिया ने आगे कहा कि आज महिलाओं का कितना सम्मान होता है. महिला पुरुषों के साथ कदम से कदम मिलाकर चल रही हैं. उन्होंने कहा कि एक बात जान लीजिए जिस राज्य में पुरुष और महिला एक साथ काम करते हो, उस राज्य में विकास होने से कोई नहीं रोक सकता है. हमने भी बिहार की महिलाओं की क्षमता देखा है. कितना कुछ जानती हैं वे लोग. जब भी भाषण देती हैं तो सुन कर अच्छा लगता है कि उनके पास हरेक बात की जानकारी है. सीएम ने कहा कि जब हम पहले लोगों को कहते थे कि महिलाओं को आरक्षण देना चाहिए तो इसपर वे लोग मुझपर हंसा करते थे. लेकिन हमने उस वक्त हंस के भी कह दिया था कि देख लीजिएगा समय सब बता देगा. आज किसी को कुछ बताने की जरूरत नहीं है.



अपने भाषण के दौरान सीएम ने कहा कि पहले स्कूल का कितना बुरा हाल था. कहां बच्चे पढ़ पाते थे. पहले प्राथमिक स्कूलों के बाहर काफी संख्या में बच्चे बाहर रह जाते थे. जब हमने पता कराया तो मालूम चला कि जितने भी बच्चे थे, वे या तो महादलित समुदाय से थे या फिर अल्पसंख्यक समुदाय से थे. इसके बाद हमने टोला सेवक सहित चार लोगों को काम पर लगाया. ताकि बच्चे पढ़ सके. उन्होंने कहा कि अब ना के बराबर बच्चे स्कूल के बाहर दिखते हैं. वहीं लड़कियां स्कूलों में कितनी पढ़ती थी. लेकिन हमने पोशाक योजना, साईकिल योजना लाकर लड़कियों की पढ़ाई में रुचि जगाया. आज देख लीजिए लड़कों से ज्यादा लड़कियां स्कूलों में पढ़ने जा रही हैं.

सीएम ने कहा कि जिन लोगों को पहले 15 साल राज करने का मौका मिला, उन्होंने महिलाओं के क्या काम किया? हमने जीविका समूह के तहत महिलाओं को जोड़ा. इसके लिए हमने विश्व बैंक से कर्ज लिया. आज देख लीजिए कि कितना काम हो रहा है. उन्होंने कहा कि जब यूपीए की सरकार थी तो उनलोगों ने भी आकर देखा कि जीविका समूह मे कितना काम हो रहा है. उन्होंने आरोप लगाते हुए कहा कि कुछ लोगों को क ख ग घ मालूम नहीं है. लेकिन बयान देते हैं कि हम ये करेंगे वो करेंगे. अरे भाई क्या जानते हो? क्या है जीविका समूह? पहले 10 लाख का लक्ष्य रखा था, उसे पूरा कर लिया. उन्होंने कहा कि अब 1 करोड़ 20 लाख से अधिक महिलाएं इससे जुड़ गई हैं. उन्होंने कहा कि इससे महिलाओं मे कितनी जागृति आई है, आमदनी भी बढ़ रही है.

उन्होंने कहा कि लोगों को मालूम है कि जब कोई सकारात्मक काम होता है तो उसे बिगाड़ने के लिए कुछ लोग कुछ ना कुछ बोलते रहे हैं. हम तो आपसे बस अपील करने आए हैं कि नई पीढ़ी के लोगों को एक-एक ये बता दीजिए कि बच्चियां पढ़ नहीं पाती थी, साईकिल योजना आने के बाद लड़किया स्कूल जाने लगी. इस दौरान भी कई लोग मेरा मजाक उड़ाया करते थे कि लड़कियों को साईकिल दे रहे हैं, लोग उसे तंग करेंगे. आज देख लीजिए हर परिवार में लड़कियों को साईकिल दी गई और कई किसी को तंग नहीं कर रहा है. इसलिए हम आपसे अनुरोध कर रहे हैं कि हमारे काम को देखते हुए आप भाई मुकेश सहनी के लिए वोट दीजिएगा. ताकि इस क्षेत्र के साथ-साथ बिहार का विकास हो सके.