दानापुर में नीतीश कुमार ने की चुनावी सभा, कहा- विकास के काम के लिए एनडीए हरदम है तैयार

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क: मुख्यमंत्री नीतीश कुमार आज लगातार चुनावी सभा कर रहे हैं. वे आपने आखिरी सभा करने पटना पहुंचे. यहां वे दानापुर विधानसभा से बीजेपी उम्मीदवार आशा देवी और मनेर से उम्मीदवार निखिल आनंद के लिए वोट मांगा. इस दौरान मंच पर बीजेपी के सांसद रामकृपाल यादव, जेडीयू के कार्यकारी अध्यक्ष अशोक चौधरी सहित एनडीए के कई नेता मौजूद रहे. इस दौरान सीएम ने लोगों से एनडीए को जिताने की अपील की.

मुख्यमंत्री ने कहा कि दोनों उम्मीदवारों ने आपके सामने अच्छी-अच्छी बातें की. निखिल आनंद ने भी आपके सामने कितना अच्छा बोला. उन्होंने कहा कि मुझे उनकी बातों को सुनकर बहुत खुशी मिली. युवा हैं और काम करने में समर्थ हैं. सीएम ने कहा दोनों उम्मीदवारों को शुरु से ही देखते आ रहे हैं कि अपने क्षेत्रों की समस्या को कितनी अच्छी तरीके से समझते हैं. उन्होंने कहा कि इन्हें भारी संख्या में वोट देकर जिताना है. ताकि अपने क्षेत्र का विकास कर सके.



बिहार के मुखिया ने कहा कि जब आपलोगों ने काम करने का मौका दिया तो एनडीए की सरकार ने कितना काम किया. उन्होंने कहा कि अभी मंच पर अन्य साथियों ने आपलोगों को हमारे काम काम के बारे में बता ही दिया है. सीएम ने कहा कि शाम होने के बाद शहर लगभग सब बंद हो जाता था. लोगों को बाहर निकलने की हिम्मत नहीं होती थी. उस दौर के लोगों को अच्छे से मालूम है. पहले कितनी घटनाएं घटती थी, पहले कितना अपराध होता था. ये कोई भूल नहीं पाया है. उन्होंने कहा कि जब अपहरण होता था तो कितने डॉक्टर और व्यवसायी बिहार छोड़कर चले गए थे. लेकिन जबसे आपलोगों ने हमें काम करने का मौका दिया तबसे हमने पहले कानून राज स्थापित किया और उस काल में जितने भी व्यवसायी और डॉक्टर यहां हिम्मत दिखाकर रूक गए थे, हमने उनका सम्मान किया.

अपने संबोधन में नीतीश कुमार ने कहा कि पहले काम तो होता नहीं था. पढ़ाई भी कितनी होती थी? आपसे थोड़ी छिपा है. स्कूल नहीं चल पाता था, लड़कियां स्कूल नहीं जाया करती थी. लेकिन जब आपने काम करने का मौका दिया तब हमने पोशाक योजना की शुरुआत की. जिसके बाद बच्चे स्कूल जाना शुरू कर दिए. वहीं हाई स्कूल में भी लड़कियां स्कूल नहीं जाती थी. लेकिन हमने उनके लिए साईकिल योजना शुरू कर दी. जिसके बाद भारी संख्या में लड़कियां स्कूल जाने लगी.

उन्होंने कहा कि आपको जानकर हैरानी होगी कि जब हमने बाद में स्कूलों में सर्वे कराया तो मालूम चला कि स्कूलों में लड़कों से ज्यादा लड़कियां पढ़ने जाती हैं. सीएम ने कहा कि जब हमने बच्चियों को साईकिल देना शुरू किया तो कुछ लोग कहने लगे कि साईकिल देने से उन्हें लोग तंग करेंगे. लेकिन हमने उस वक्त भी कह दिया था कि कोई किसी को तंग नहीं करेगा और आज देख लीजिए कि साईकिल मिलने से लड़कियों का मनोबल कितना बढ़ गया है. सीएम ने आगे कहा कि हम आपसे यह अनुरोद करते हैं कि एनडीए की सरकार को जिताइए और राज्य में विकास का काम कराइए.