मधेपुरा में नीतीश कुमार ने की चुनावी सभा, निरंजन कुमार मेहता के लिए मांगा वोट

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क: मुख्यमंत्री नीतीश कुमार का आज 2 जिलों के पांच विधानसभा क्षेत्रों में प्रचार का कार्यक्रम है. उन्होंने अपना प्रचार कार्यक्रम मधेपुरा के आलमनगर विधानसभा क्षेत्र में किया. उसके बाद वे अपने दूसरे कार्यक्रम के लिए मधेपुरा के बिहारीगंज विधानसक्षा क्षेत्र पहुंचे. यहां उन्होंने जेडीयू प्रत्याशी निरंजन कुमार मेहता के लिए वोट मांगा. साथ ही लोगों से उन्हें जिताने की अपील की.

सीएम ने कहा कि कोरोना काल चल रहा है और चुनाव भी हो रहा है. आयोग ने चुनाव के लिए ज्यादा समय नहीं दिया. पहले तो हम आपके बीच हर समय आ जाया करते थे. लेकिन चुनाव में समय कम मिलने के कारण अब आपसे मुलाकात कम हो पाती है. उन्होंने कहा कि इस बार चाहकर के भी हर जगह पहुंचना संभव नहीं हो पा रहा है. लेकिन आपके बीच हम आए हैं और हमें इस बात की खुशी भी है कि इतनी गर्मी होने के बावजूद आप हमें सुनने आए हैं.



नीतीश कुमार ने कहा कि जबसे आपने हमें काम करने का मौका दिया है तबसे हमने एक-एक काम किया है. हमने आपदा प्रबंधन के लिए भी काम किया. इसके अलावा हमने पहले ही कहा था कि हमें काम करने का मौका मिलेगा तो न्याय के साथ विकास का काम करेंगे. हमने उसी के मुताबिक काम भी किया. उन्होंने कहा कि हमने हर इलाके का विकास किया और समाज के हर तबके का उत्थान किया है. कोई ऐसा इलाका नहीं होगा जिसकी हमने उपेक्षा की हो. मुख्यमंत्री ने कहा कि पहले महिलाओं को कितना सम्मान मिलता था? हमने उन्हें 50 प्रतिशत तक पंचायत चुनाव में आरक्षण दिया. अब देख लीजिए कि कितनी महिलाएं जनप्रतिनिधि के रुप में काम कर रही हैं.

उन्होंने कहा कि हम जब भी बाहर जाया करते हैं तो उस राज्य के विसाका आधार जानने की कोशिश करते हैं. उन्होंने कहा कि हमने महिलाओं की क्षमता को बेहतर समझा है. हमें पता है कि महिला और पुरुष दोनों मिलकर अगर काम करते हैं तो उस राज्य का विकास सुनुश्चित है. सीएम ने कहा कि जबसे हमने महिलाओं को आरक्षण देना शुरू किया तबसे महिला जनप्रतिनिधि के रूप में काम कर रही हैं. उन्होंने ये भी कहा कि मैं खुश होता हूं देखकर कि आज की महिलाएं कितना कुछ जानती हैं. जब वो सभा को संबोधित करती हैं तो लगता है कि वो कितना कुछ जानती हैं. हमने महिलाओं के लिए जीविका समूह का गठन किया. इसके लिए हमें विश्व बैंक से कर्ज भी लेना पड़ा. 10 लाख लक्ष्य था हमारा. लेकिन अब तो उससे कई आगे निकल चुके हैं. उन्होंने बताया कि जीविका समूह से 1 करोड़ 20 लाख से अधिक महिलाएं जुड़ चुकी हैं और सभी आज आत्मनिर्भर भी हैं. इसलिए हम आपसे एनडीए को फिर से जिताने की अपील करते हैं.