दरभंगा गरम है, पहले विधायक को दिखाया झाड़ू-चप्पल, फिर चोर बताकर लगाए पोस्टर

दरभंगा : दरभंगा शहर से भाजपा विधायक संजय सरावगी के लिए बीते दो दिन अच्छे नहीं रहे हैं. पहले कल मंगलवार को शहर में भाजपा द्वारा आयोजित पटेल जयंती के एक कार्यक्रम में उनके साथ बदसलूकी की गई. कथित तौर पर बाढ़ पीड़ितों ने उन्हें झाड़ू और चप्पल दिखाए. सभा में कुर्सियां भी चली. अब आज बुधवार को सरावगी के खिलाफ शहर भर में पोस्टर लगाए गए हैं.

आज बुधवार को दरभंगा शहर में अलग-अलग जगहों पर विधायक संजय सरावगी के खिलाग पोस्टर लगे दिखाई दे रहे हैं. इनमें विधायक की तस्वीर के साथ ही दरभंगा जिला के मीडिया प्रभारी , जिलाध्यक्ष सहित भाजपा के कुछ और नेताओं की तस्वीर भी शामिल है. पोस्टर लिखा है – ‘सच ही कहते है सब, बाप दिवालिया बेटा चोर है, इन चोरों के हाथ में इनके काले धन की डोर है, बुझ गए है सब, ये विधायक कमीशन खोर है.’

पोस्टर पर लगाने वाले ने अपना नाम-पता नहीं लिखा है. लेकिन इन्हें देखकर शहर भर में हलचल है. गलियों-नुक्कड़ों पर राजनीतिक बहस हो रही है. कुछ पोस्टर के समर्थन में, तो कुछ इसके विरोध में हैं. इन सबके बीच मंगलवार को कवड़ा घाट स्थित पटेल चौक पर हुई घटना भी चर्चा में है.

इस मामले में हालांकि अब तक विधायक संजय सरावगी ने कुछ नहीं कहा है. उन्होंने मीडिया में कोई भी टिप्पणी करने से साफ़ इंकार कर दिया है. लेकिन मिडिया प्रभारी राजू तिवारी ने सफाई देते हुए इसे विरोधियों की चाल बताया. उन्होंने पार्टी में किसी भी आंतरिक विरोध को खारिज करते हुए सरावगी की तारीफ़ की और कहा कि शहर को अभी तक ऐसा विधायक नहीं मिला था.

उधर मंगलवार की घटना को लेकर भाजपा नेताओं और दरभंगा शहर की मेयर के बीच जुबानी जंग की शुरुआत हो गई. पार्टी का आरोप है कि मेयर ने बाढ़ पीड़ितों को गलतफहमी में डालकर विधायक के खिलाफ भड़काया. स्थानीय पार्षद-सह-मेयर ने अभी तक बाढ़ पीड़ितों की सूची जमा नहीं की है. दूसरी ओर मेयर ने भाजपा के इस आरोप को निराधार बताते हुए कहा कि बाढ़ पीड़ितों ने अपना आक्रोश जाहिर किया है तो यह भाजपा व विधायक को समझना चाहिए कि ऐसा क्यों हो रहा है.