किसानों की समस्या को लेकर विधानसभा गेट के सामने रामगढ़ विधायक सुधाकर सिंह ने किया धरना प्रदर्शन

कैमूर/भभुआ(ब्रजेश दुबे): कैमूर जिले के रामगढ़ विधानसभा क्षेत्र के विधायक सुधाकर सिंह ने पटना में विधानसभा गेट के सामने राजद के विधायकों के साथ किसानों की समस्या को लेकर धरना प्रदर्शन किया. उन्होंने कहा कि सड़कों पर आंदोलित किसान गद्दार नहीं हैं. न्यूनतम समर्थन मूल्य पर सौ फ़ीसदी धान की खरीद सुनिश्चित हो और गरीब किसान की खेती पूंजीपतियों के साथ साझा न की जाए. विधानसभा सत्र के दौरान विधानसभा के बाहर राजद के तमाम विधायकों ने विरोध प्रदर्शन किया.

साथ ही विरोध प्रदर्शन के दौरान केन्द्र सरकार द्वारा गत दिनों संसद में पारित किसान विरोधी कृषि बिल का राष्ट्रीय जनता दल द्वारा विरोध करने का निर्णय लिया गया है. बिहार में 2006 में हीं एमएसपी बंद कर देने से थोक गल्ला बिक्री पर सरकार का एकाधिकार हो स्थापित हो गया. उसे देख परिणाम यह हुआ कि बिहार सरकार के कुल खाद्यान लक्ष्य का एक प्रतिशत भी खाद्यान की खरीद नहीं हो सका.



यदि एमएसपी एक्ट में संशोधन से किसानों को लाभ मिलता तो बिहार के किसानों की सम्पन्नता दिखाई पड़ती. जबकि 2006 के बाद बिहार के किसानों की स्थिति काफी बदतर हो गई है. किसान और कृषि कार्य से जुड़े मजदूर गांव छोड़कर बड़ी संख्या में रोजी-रोटी की तलाश में दूसरे राज्यों में पलायन करने को मजबूर हो रहे हैं.

इनके अस्तित्व को बचाने के लिए पूरी मजबूती के साथ हमें इस जंग को लड़ना है. अन्यथा गांवों के अस्तित्व पर हीं प्रश्नचिन्ह खड़ा हो जायेगा. हम भी उसी के अंग हैं. इसलिए किसान  मजदूर और गांव की लड़ाई राजद की लड़ाई है. यह लड़ाई गांवों को  बचाने और खेत-खलिहानों के साथ गांवों में खुशहाली लौटाने की लड़ाई है.

आज जब किसानों का अनाज खेत और खलिहान से होकर घर आ गया लेकिन सरकार अभी तक धान खरीद की अधिसूचना जारी तक नहीं की यही नहीं सरकार पराली जलाने के सवाल पर जितना सख्त है उतना धान खरीद के सवाल पर बेजुबा है.