मधुबनीकांड में आरोपियों की गिरफ्तारी पर तेजस्वी का सीएम नीतीश पर आरोप, बिहार पुलिस को बताया ‘JDU’ पुलिस

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क: मधुबनी के बेनीपट्टी के महमदपुर हत्याकांड को लेकर बिहार में सियासत गरम है. मधुबनी नरसंहार के आरोपियों की गिरफ्तारी के बाद नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने नीतीश सरकार पर एक बार फिर जबरदस्त हमला बोला है. बिहार में अपराधियों का बहार, क्योकि भईया नीतीशे कुमार है. होली के दिन बिहार के मधुबनी जिले में खुन की होली खेली गई थी. जहां गोली मारकर एक ही परिवार के पांच लोगों की हत्या कर दी गयी थी. बिहार पुलिस JDU पुलिस बन कर गयी है. बिहार में रोजाना सैकड़ों हत्या हो रही है. अपराधियों ने तांडव मचा कर रखा है.

उन्होंने कहा कि घटना से दो दिन पहले बेनीपट्टी से बीजेपी विधायक और पूर्व मंत्री विनोद नारायण झा ने रावण सेना के साथ एक बैठक की थी. रावण सेना चलाने वाले प्रवीण झा को पूर्व मंत्री विनोद नारायण झा का संरक्षण मिला हुआ है. तेजस्वी ने आगे कहा कि मधुबनी में जितने भी पुलिस अधिकारी हैं, आरोपी प्रवीण झा की सबसे बनती है. उन्होंने आरोप लगाया कि इस नरसंहार में बड़े-बड़े लोगों का हाथ है.

तेजस्वी यादव ने कहा कि गोपालगंज का मामला हो कटिहार का या फिर रूपेश हत्याकांड, सभी मामलों में ‘जदयू पुलिस’ क्या कर रही है, यह सब देख रहे हैं.नेपाल से प्रवीण झा की गिरफ्तारी की सूचना मिल रही है, यह तब है जब मैं वहां गया, इसका असर है कि आज नेपाल से उसकी गिरफ्तारी हुई.तेजस्वी यादव ने कहा कि वहां के डीएसपी का आरोपी प्रवीण झा से नजदीकी संबंध है। उन्होंने बताया कि पहले उन्हें भगा दिया गया, फिर जब मैं कल परिवार से मिलने पहुंचा, उसके बाद पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार किया है। उन्होंने कहा कि इस घटना में पुलिस की भूमिका कहीं न कहीं सदिग्ध है। उन्होंने बताया कि अगर हम वहां नहीं जाते तो कोई गिरफ्तारी नहीं होती.

तेजस्वी ने बताया कि जब कहीं कोई घटना होती है तो सबसे पहले फॉरेंसिक टीम को जांच के लिए भेजा जाता है लेकिन मधुबनी नरसंहार के मामले में अबतक किसी फॉरेंसिक टीम का कुछ अता पता नहीं है. मामले की निष्पक्ष जांच करने की बजाय आरोपी अधिकारियों को ही मामले की जांच का जिम्मा सौंप दिया गया है. उल्टा बिहार की पुलिस पीड़ित परिवार को सुरक्षा देने की बजाय आरोपियों की सुरक्षा करने में लगी हुई है.

तेजस्वी यादव ने कहा कि नीतीश कुमार सबसे बेबस और लाचार मुख्यमंत्री हैं, कानून व्यवस्था को सुधारने में इनका कोई इंटरेस्ट नहीं है. जहां हम पीड़ितों से मिलने पहुंचे थे, वहीं वह पटना में केवल जोड़तोड़ कर के अपनी कुर्सी बचाने में लगे हुए थे. उन्होंने कहा कि हमने हमने तो पीड़ित परिवार के आंसू पोछे, लेकिन न तो सीएम और न ही उनके दोनों डिप्टी सीएम ने दुखी परिवार से मिलना जरुरी समझा है. तेजस्वी ने कहा कि 15 सालों में जितनी बार मुख्यमंत्री अपने पार्टी ऑफिस नहीं पहुंचे, हमारे चलते कुछ महीनों में वह कितनी बार जेडीयू दफ्तर पहुंच गए.

तेजस्वी यादव ने कहा कि नीतीश कुमार पूरी तरह से फेल हो चुके हैं. तेजस्वी ने कहा कि बिहार में अपराधियों की बहार है. मुख्यमंत्री खुद अपराधियों को संरक्षण दे रहे हैं. अब बिहार में स्थिति ऐसी हो गई है कि यहां हत्याएं हो जाती हैं लेकिन सबूत होने के बावजूद भी पीड़ितों को न्याय नहीं मिल पाता है. इतना ही नहीं नीतीश कुमार ने उस एसपी और डीएसपी को जांच का जिम्मा सौंप दिया है जो खुद इस मामले में संलिप्त हैं तो ऐसे में पीड़ितों को न्याय मिलने का सवाल ही नहीं उठता.