Tiger Death Bihar : बिहार में जंगल से पकड़ी गई खूंखार बाघिन ने पटना जू में दम तोड़ा, कमजोर अवस्था में मिली थी बेतिया में

लाइव सिटीज, पटना : Tiger Death Bihar : बिहार में पकड़ी गई खूंखार बाघिन आखिर पटना में दम तोड़ दिया. पिछले सप्ताह वाल्मिकीनगर टाइगर रिजर्व (Valmikinagar Tiger Reserve) से निकलकर शहर की ओर निकल गई थी. बाहरी इलाकों में हमला कर उसने तीन लोगों की जान ले ली थी. इसके बाद से ही उसे पकड़ने के लिए वन विभाग की कई टीमें लगी हुई थीं.

वन विभाग की तैयारियों इतर खूंखार बाघिन कल बेतिया के निकट मानपुर जंगल में कमजोर अवस्था ​में मिली थी. तब वन विभाग की टीम ने उसे अपने कब्जे में ले लिया था. इसके बाद उसे पटना जू लाया गया था. लेकिन मिल रही जानकारी के अनुसार, बाघिन इतनी कमजोर हो गई थी कि आज उसने दम तोड़ दिया. बता दें कि गौनहा प्रखंड में 12 फरवरी की रात परसौनी गांव के पास बाघिन ने खेत की रखवाली कर रहे 3 लोगों पर हमला कर दिया था. इसमें परसौनी गांव निवासी अकलू महतो और उनकी पत्नी रिखिया देवी की मौत हो गई थी. इसी घटना में सोखा मांझी बुरी तरह घायल हो गए थे, जिनका इलाज चल रहा है. इसके एक दिन पहले भी बाघिन ने एक महिला पर हमला कर उसकी जान ले ली थी.



इसके बाद बाघिन को पकड़ने के लिए गांव के आसपास सात पिंजरे लगाए गए थे. 60 टाइगर ट्रैकर की ड्यूटी लगाई गई थी. इसके साथ ही ड्रोन कैमरे से नजर रखी जा रही थी. यहां तक कि भेाजन के लिए बकरी के भी इंतजाम किये गये थे. लेकिन इससे इतर ​बाघिन खुद ही कमजोर अवस्था में मिली थी. वह काफी कमजोर हो गई थी. इसलिए बहुत चल—फिर नहीं पा रही थी और जंगल में ही कीचड़ में फंस गई थी. इसके बाद टीम के लोगों ने उसे अपनी गिरफ्त में ले लिया था. पटना जू लाकर उसका इलाज किया जा रहा था. इसी दौरान उसने दम तोड़ दिया.

माना जा रहा है कि बाघिन काफी बूढ़ी और बीमार हो गई थी. वह शिकार भी नहीं कर पा रही थी. भोजन की तलाश में ही वह जंगल से बाहर निकल गई थी. वह एक नाले के पास कीचड़ में फंसी मिली थी. आशंका की जा रही है कि बाघिन ने कई दिनों से कुछ खाया भी नहीं था.