उपेंद्र कुशवाहा का बड़ा बयान, महागठबंधन के विधायक टूटने को हैं तैयार, लेकिन हमलोग नहीं ले रहे कोई दिलचस्पी

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क: विधानसभा के मानसून सत्र के दौरान सियासी बयानबाजी भी जोर पकड़ रही है.  उपेंद्र कुशवाहा ने कहा है कि महागठबंधन के विधायक टूटने को तैयार बैठे हैं. यह अलग बात है कि हम उस में दिलचस्पी नहीं ले रहे. महागठबंधन के अंदर बहुत बेचैनी है. बिहार में उपेंद्र कुशवाहा ने अपनी यात्रा को लेकर कहा कि आम लोग और पार्टी कार्यकर्ता सभी लोग काफी अच्छा रिस्पांस मिल रहा है. मुख्यमंत्री के काम के प्रति काफी अच्छा रिस्पॉन्स मिल रहा है. 31 जुलाई को जदयू के राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक पर कहा कि  कहा पार्टी की बैठक है इस विषय से मुझे जोड़कर देखने का कोई मतलब नहीं है.

मुकेश साहनी पर उपेंद्र कुशवाहा ने कहा कि मुकेश साहनी की नाराजगी के बाद एनडीए का मामला था. उनसे हमारी कोई बात नहीं हुई है. मुकेश साहनी से अगर बात होगी तब पूरा मामला स्पष्ट होगा. NDA में नाराजगी ना रहे इसका प्रयास चलते रहता है. मगर अभी जो नाराजगी की बात चल रही है वह कोई बड़ी बात नहीं है.

जाति जनगणना पर उपेंद्र कुशवाहा ने कहा कि जातीय जनगणना बेहद जरूरी है सुप्रीम कोर्ट ने भी जातीय जनगणना कराने को लेकर कई टिप्पणियां की है.जातीय जनगणना जितनी जल्दी हो वह आवश्यक और जरूरी है. सम्राट चौधरी के बयान को लेकर उन्होंने कहा कि बिहार में बीजेपी 2025 में अकेले चुनाव लड़ने की तैयारी करें. सम्राट चौधरी को ऐसा कुछ लगता है तो वह अपनी पार्टी के नेता से बात करें.जनता ने नीतीश कुमार को जनादेश दिया है.बिहार की जनता ने ठोक कर नीतीश कुमार पांच साल चलाने का जनादेश दिया है. बीजेपी किसी एक नेता के इस बयान से पार्टी का बयान नहीं होता.