बेगूसराय एनटीपीसी में मजदूर की मौत पर हंगामा, ग्रामीणों ने कर्मचारियों को बनाया बंधक, बिजली उत्पादन हो सकता प्रभावित

लाइव सिटीज,सेंट्रल डेस्क : बेगूसराय जिले में संविदा मजदूर की मौत से गुस्साए ग्रामीणों ने पावर प्लांट की घेराबंदी कर अधिकारियों समेत सीआईएसएफ सुरक्षा कर्मचारियों को बंधक बना लिया है. ग्रामीण मृतक मजदूर के परिजनों के लिए मुआवजे की मांग कर रहे थे. जिसके बाद एनटीपीसी ने पावर प्लांट को अस्थायी रूप से बंद करने की बात कही है.

मजदूर की मौत से उत्तेजित ग्रामीणों ने बीटीपीएस संयत्र के सभी प्रवेश और निकास बिंदुओं को बंद कर दिया. इस कारण करीब 750 अधिकारी और सुरक्षाकर्मी बंधक बन गए. बेगूसराय जिला प्रशासन ने अभी तक मामले में हस्तक्षेप नहीं किया  है. एनटीपीसी के प्रवक्ता विश्वनाथ चंदन ने कहा कि 22 घंटे से नाकेबंदी है, और हमारे अंदर बंद वो बाहर नहीं निकल पा रहे हैं.हमारे कई सारे कर्मियों की उम्र 50 वर्ष से अधिक है और उन्हें दवा की आवश्यकता है. लेकिन वो लोग बाहर नहीं आ पा रहे   जिससे उन्हें काफी दिक्कत हो रही है.



उन्होंने आगे कहा कि एनटीपीसी का एनएच-28 पर हुई सड़क दुर्घटना से कोई संबंध नहीं है. चंदन ने कहा कि कॉन्ट्रैक्ट पर काम करने वाले एक कर्मी की एनएच- 28 पर दुर्घटना में मौत होती है और हमारे कर्मियों को पिछले 22 घंटे से बंधक बना लिया जाता है, यह समझ से परे है.बता दें कि मंगलवार दोपहर में एनटीपीसी के लिए काम करने वाले रामाशीष ठाकुर की घर लौटते समय तेज रफ्तार वाहन की चपेट में आने से मौत हो गई थी.इसी घटना के बाद से ग्रामीण मुआवजे की मांग को लेकर एनटीपीसी के बाहर प्रदर्शन कर रहे हैं.