संकट की घड़ी में हम सभी एक हैं, पीएम की अपील, राज्य के मुख्यमंत्रियों के साथ बैठक में सहयोग का पूरा भरोसा

लाइव सिटीज, पटना. कोरोना से पूरा देश कराह रहा है. संक्रमित मरीजों की संख्या दिनों दिन बढ़ती ही जा रही है. अस्पतालों में ऑक्सीजन की घोर कमी आ गई है. हर तरफ हाहाकार का माहौल बन गया है. ऐसे में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राज्यों के हालात जानने की मंशा से शुक्रवार को 11 राज्यों एवं केंद्र शासित प्रदेशों के मुख्यमंत्रियों की वीडियो कांफ्रेंसिंग से बैठक ली. इस बैठक में दिल्ली, महाराष्ट्र, गुजरात, उत्तर प्रदेश, केरल, छत्तीसगढ़, मध्य प्रदेश, कर्नाटक समेत दूसरे राज्यों के मुख्यमंत्री शामिल रहे. मुख्यमंत्रियों ने कोरोना महामारी पर अपने_अपने राज्यों की बदहाली और कोरोना के प्रभाव से अवगत कराया. नरेंद्र मोदी ने राज्यों के मुख्यमंत्री से कहा कि अगर हम एक राष्ट्र के तौर पर काम करेंगे तो संसाधनों की कोई कमी नहीं होगी. उन्होंने राज्यों को केंद्र से पूर्ण समर्थन का आश्वासन दिया.

बैठक में पीएम ने कहा कि स्वास्थ्य मंत्रालय राज्यों के साथ लगातार संपर्क में हैं. बारीकी से निगरानी किया जा रहा है. समय_समय पर आवश्यक सलाह जारी किया जा रहा है. पीएम ने राज्यों द्वारा उठाए गए बिंदुओं पर ध्यान दिया. उन्होंने कहा कि ऑक्सीजन की आपूर्ति बढ़ाने के लिए लगातार प्रयास किया जा रहा है. सरकार के सभी संबंधित डिपो और मंत्रालय भी एक साथ काम कर रहे हैं. औद्योगिक ऑक्सीजन को भी तत्काल आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए कहा गया है. कोरोना के खिलाफ लड़ाई में राज्यों को पूरे सहयोग का आश्वासन दिया. कोविड-19 की ताजा लहर में सबसे अधिक प्रभावित 10 राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ चर्चा कर महामारी की मौजूदा स्थिति की समीक्षा करने के दौरान प्रधानमंत्री ने कहा कि कोरोना की पहली लहर के दौरान संयुक्त प्रयासों और संयुक्त रणनीति से भारत ने संक्रमण से सफलता पाई थी. इसी  सिद्धांत पर काम करते हुए ताजा लहर से भी मुकाबला किया जा सकता है. बैठक के बाद प्रधानमंत्री कार्यालय (पीएमओ) की ओर से जारी एक बयान के मुताबिक मोदी ने कहा कि वायरस इस बार कई राज्यों के साथ ही टीयर-2 और टीयर-3 शहरों को प्रभावित कर रहा है.

उन्होंने इस महामारी से लड़ाई के लिए साथ मिलकर काम करने और सामूहिक शक्ति से मुकाबला करने का आह्वान किया. ऑक्सीजन टैंकरों को भेजने और फिर उनकी वापसी में लगने वाले समय को कम करने के लिये रेलवे, वायुसेना की मदद ली जा रही है. प्रधानमंत्री ने सभी राज्यों से साथ मिलकर काम करने और दवाइयों तथा ऑक्सीजन संबंधित जरूरतों को पूरा करने के लिए एक-दूसरे से सहयोग करने का आग्रह किया. साथ ही उन्होंने राज्यों से ऑक्सीजन की जमाखोरी और कालाबाजारी पर नकेल कसने का आग्रह किया. इस बैठक में दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल का संबोधन विवाद का वजह बन गया. पीएम के साथ सीएम की हुई वीडियो कांफ्रेंसिंग बैठक को दिल्ली के मुख्यमंत्री ने लाइव कर दिया. इस बैठक की बातचीत को लाइव करने से पीएम मोदी की ओर से आपत्ति दर्ज कराया गया. इस पर अरविंद केजरीवाल ने सफाई दी कि उन्हें ऐसे कोई निर्देश प्राप्त नहीं थे. उन्होंने यह भी कहा कि अगर इससे कोई दिक्कत सामने आई है तो उसके लिए खेद प्रकट करते हैं.