BJP डाल रही अड़ंगा, CM नीतीश के करीबी उपेंद्र कुशवाहा का बड़ा आरोप, जानें पूरा मामला

लाइव सिटीज पटना: बिहार में जातीय जनगणना (Caste Census) को लेकर हलचल तेज है. इसको लेकर हाल ही में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव की मुलाकात हो चुकी है. तेजस्वी यादव जातीय जनगणना पर देरी को लेकर सवाल उठाते रहे हैं. वहीं इस बीच जेडीयू संसदीय बोर्ड के अध्यक्ष उपेन्द्र कुशवाहा (Upendra Kushwaha) ने सहयोगी बीजेपी पर निशाना साधा है. उन्होंने कहा है कि जातीय जनगणना पर बीजेपी अड़ंगा डाल रही है.

जेडीयू संसदीय बोर्ड के अध्यक्ष उपेन्द्र कुशवाहा ने कहा कि बीजेपी की वजह से जातिगत जनगणना में देरी हो रही है क्योंकि इस वजह से जल्द से जल्द सर्वदलीय बैठक नहीं हो पा रही है. इसलिए राज्य में जातिगत जनगणना को लेकर कोई फैसला नहीं हो पा रहा है. उपेन्द्र कुशवाहा के इस बयान पर बीजेपी ने भी पलटवार किया है. बीजेपी के प्रवक्ता राम सागर सिंह ने कहा कि लगता है उपेन्द्र कुशवाहा मुख्यमंत्री नीतीश कुमार का बयान ठीक से सुनते नहीं हैं.

बीजेपी प्रवक्ता राम सागर सिंह ने कहा कि खुद नीतीश कुमार ने कहा है कि जातिगत जनगणना के मामले पर काम चल रहा है तो फिर उपेन्द्र कुशवाहा जो आरोप लगा रहे हैं. उन्हें पहले मुख्यमंत्री से यह सवाल पूछना चाहिए. बीजेपी प्रवक्ता ने जदयू पर ही सवाल खड़े कर दिए और उन्होंने कहा कि क्या सीएम नीतीश कुमार ने कोई सर्वदलीय बैठक बुलायी है. जिसमें बीजेपी शामिल नहीं हुई है, तो फिर वो अनर्गल आरोप क्यों लगाते हैं. उपेन्द्र कुशवाहा का इस तरह का बयान देना ठीक नहीं है.

बता दें कि नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने हाल ही में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार जातीय जनगणना को लेकर मुलाकात की है. सीएम और तेजस्वी के बीच करीब 45 मिनट मुलाकात हुई. सीएम नीतीश ने तेजस्वी को जातीय जनगणना का आश्वासन दिया है. वहीं सीएम ने सर्वदलीय बैठक बुलाने का भी भरोसा दिया है. तेजस्वी ने बताया कि सीएम ने आश्वस्त किया है कि बिहार कैबिनेट में भी प्रस्ताव लाया जाएगा. कब करेंगे इस पर तेजस्वी ने बताया कि सीएम ने कहा कि अति शीघ्र इस काम को करेंगे. सीएम ने हमको आश्वस्त किया है इस काम को जरुर करेंगे और करवाएंगे.

बतातें चलें कि बिहार में विपक्ष की ओर से लगातार जातीय जनगणना की मांग की जा रही है. सीएम नीतीश कुमार भी इसके पक्ष में हैं. जातीय जनगणना को लेकर एक बार नीतीश कुमार के नेतृत्व में 10 दलों के प्रतिनिधियों ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात भी कर चुके हैं. इस प्रतिनिधि मंडल में बीजेपी के नेता भी शामिल थे. हालांकि केंद्र सरकार ने साफ कर दिया है कि वह जाति आधारित जनगणना नहीं करा सकती है. लेकिन तेजस्वी यादव कह चुके हैं कि राज्य सरकार अपने खर्चे पर कराएं, सीएम नीतीश भी तैयार हैं. हालांकि बात आगे नहीं बढ़ पा रही है.