कुशवाहा के बयान पर BJP का सवाल- क्या राजनीति नैतिकता ,सिद्धांत, मर्यादा को ताक पर रखकर की जाएगी?

लाइव सिटीज, सेन्ट्रल डेस्क: देश में 23 मई को लोकसभा चुनाव के नतीजे आ रहे हैं. एग्जिट पोल्स के बीच वोटों की गिनती गुरुवार को जारी हो जाएगा. इससे पहले बिहार में महागठबंधन के नेताओं ने संयुक्त रूप से प्रेस कांफ्रेंस किया. इस दौरान रालोसपा प्रमुख उपेन्द्र कुशवाहा ने एक विवादित बयान दे दिया. उन्होंने कहा कि एग्जिट पोल और सरकार के इस कार्य से जनता में आक्रोश पनप रहा है. यही रवैया जारी रहा तो जनता का आक्रोश नहीं संभालने वाला तो रोड पर खून बहेगा.

उपेन्द्र कुशवाहा के इस बयान के बाद बिहार में बयानों का सिलसिला शुरू हो गया है. बिहार भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष नित्यानंद राय ने महागठबंधन के प्रेस कांफ्रेंस और उपेन्द्र कुशवाहा के बयान पर पलटवार करते हुए कहा है कि महामिलावट के नेताओं ने प्रेस कॉन्फ़्रेंस कर खून-खराबे बात की है वह दुर्भाग्यपूर्ण है. ये लोग संभावित हार के डर से बौखलाए हैं और लगातार संवैधानिक एवं स्वायत्त संस्थाओं पर सवाल उठा रहे हैं. ऐसा प्रतीत होता है कि इन्हें अब लोकतंत्र में विश्वास एवं संविधान में आस्था भी नही रहा.

भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष नित्यानंद राय ने कहा कि रालोसपा नेता उपेन्द्र कुशवाहा के मुँह से खून-खराबे वाली बात सुनकर आश्चर्य है. क्या राजनीति नीति- नैतिकता- सिद्धांत- मर्यादा को ताक पर रखकर की जायगी? अब देश और राज्य विकास और सुशासन के मुद्दे पर चलेगा. लेकिन यह दुखद है कि ईर्ष्या- द्वेष- भेदभाव की भावना फैलाकर सतही राजनीतिक स्वार्थ की सिद्धि में महागठबन्धन के लोग लगे हैं.

गौरतलब है कि मंगलवार को महागठबंधन ने संयुक्त रूप से प्रेस कांफ्रेंस किया. इस दौरान रालोसपा प्रमुख उपेन्द्र कुशवाहा ने एग्जिट पोल पर सवाल उठाते हुए कहा कि एक्जिट पोल से भ्रम पैदा करने की कोशिश हो रही है. बीजेपी के नेता षडयंत्र कर रहे हैं. उसी षडयंत्र का हिस्सा एक्जिट पोल है. मनोवैज्ञानिक दवाब बना रहे. हम एक्जिट पोल को सिरे से खारिज करते हैं. उन्होंने आगे कहा कि पहली बार रिजल्ट लूट का प्रयास किया जा रहा है, जो इतिहास में पहली बार हो रहा है. लेकिन बीजेपी कुछ नहीं चलने वाला है. जो रिपोर्ट है जिसमें अधिकांश सीट पर हम जीत रहे हैं. रिजल्ट लूट की घटना हुई तो हथियार भी उठा सकते हैं.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*