काली कमाई का खुलासा हो गया बहुत पहले, अब जाकर समाज कल्याण विभाग ने सीडीपीओ को किया सस्पेंड

लाइव सिटीज, पटना : निगरानी विभाग की ओर से भ्रष्ट अधिकारियों के खिलाफ लगातार अभियान चलाया जा रहा है. एक-एक अधिकारी के कई-कई ठिकानों पर छापेमारी ​की जा रही है. कहीं आय से अधिक संपत्ति का मामला तो कहीं घूसखोरी के केस उजागर हो रहा है. इसी कड़ी में माह भर पहले सीडीपीओ ज्येति कुमारी के ठिकानों पर भी रेड किया था. अब जाकर उन्हें समाज कल्याण विभाग ने सस्पेंड किया है.

पटना जिले के धनरूआ में तैनात सीडीपीओ ज्योति कुमारी के आवास पर पिछले माह ही स्पेशल विजिलेंस यूनिट की टीम ने छापेमारी की थी. बीते 23 नवंबर को हुई छापेमारी में उनके पटना व भागलपुर आवास से एक करोड़ से अधिक की संपत्ति मिली थी.

पटना में ज्योति कुमारी के फ्लैट की कीमत 70 लाख रुपए आंकी गई, जबकि भागलपुर स्थित उसके फ्लैट की कीमत 25 लाख रुपए बतायी गयी. उसके फ्लैट से 4 लाख रुपए कैश भी मिले थे. जबकि निगरानी की रिपोर्ट के अनुसार, ज्योति कुमारी की आय 88 लाख 50 हजार है. खर्च 26 लाख 50 हजार है.

बताया जाता है कि लगभग 52 लाख का हिसाब वह नहीं दे पाई है. समाज कल्याण विभाग ने निगरानी की रिपोर्ट के आधार पर आरोपी सीडीपीओ से दो बार शो काउज भी पूछा, लेकिन जवाब नहीं मिल पाया. ऐसे में अब जाकर समाज कल्याण विभाग ने उन्हें निलंबित कर दिया.

सूत्रों के अनुसार, निलंबित ज्योति कुमारी को अब पटना प्रमंडलीय आयुक्त कार्यालय में ड्यूटी करनी होगी. साथ ही निलंबन अवधि के दौरान उन्हें केवल जीवन निर्वाह भत्ता ही मिलेगा. बता दें कि बीते दो माह में एसयूवी की टीमों ने एक दर्जन से अधिक भ्रष्ट अधिकारियों के खिलाफ छापेमारी की है.