मुजफ्फरपुर महापाप : फर्जी सिग्नेचर से भी पैसा निकाल लेता था ब्रजेश, रिश्तेदारों की बढ़ी परेशानी

लाइव सिटीज डेस्क : मुजफ्फरपुर महापाप मामले में ब्रजेश ठाकुर पूरी तरह इन्वॉल्व थे. जांच में ये बात सामने आ रही है. जांच में यह भी जानकारी मिली है कि ब्रजेश ठाकुर के सेवा संकल्प समिति नामक एनजीओ में उनके परिवार के लोग ही सदस्य हैं. सदस्यों में उनकी पत्नी व साला के अलावा बेटा व बेटी भी है. ब्रजेश ने अपने भाई रमेश को भी सेवा समिति का सदस्य बनाया था. इतना ही नहीं, कहा जा रहा है कि ब्रजेश अपने भाई रमेश का सिग्नेचर भी खुद ही कर देता था और उनके नाम पर पैसा निकाल लेता था.

इधर सूत्रों से मिल रही जानकारी के अनुसार सीबीआई ने ब्रजेश ठाकुर के एनजीओ सेवा संकल्प समिति का ब्यौरा मांगा है. इसके अलावा एनजीओ के सभी सदस्यों की भी चल और अचल संपत्ति की जानकारी मांगी गई है. जानकारी के अनुसार इससे ब्रजेश ठाकुर के अलावा उनके रिश्तेदारों की भी मुश्किलें बढ़ गयी है. दरअसल उन्होंने अपने रिश्तेदारों को ही अपनी संस्था का मेंबर बना दिया था. सबसे बड़ा खुलासा तो यह है कि ब्रजेश ठाकुर अपने भाई रमेश का जाली सिग्नेचर करके उसके हिस्से की भी राशि निकाल लेता था. ब्रजेश ठाकुर की पत्नी एक कॉलेज की प्रोफेसर है.

जानकारी के अनुसार मुजफ्फरपुर बालिका गृह मामले में वहां के डीएम ने भी अपने स्तर से कार्रवाई की है. प्रशासन ने ब्रजेश ठाकुर के सहयोगियों पर शिकंजा कस दिया है. प्रशासन ने ब्रजेश ठाकुर की संपत्ति के खरीदने और बेचे जाने पर रोक लगा दी है. हालांकि कहा जा रहा है कि मुजफ्फरपुर मामले में केस दर्ज होने के बाद ब्रजेश ठाकुर के बेटे राहुल आनंद ने शहर की 11 कट्ठा जमीन करोड़ों में बेच दी है. मीडिया में आ रही खबर के अनुसार इस जमीन को बेटे ने दो करोड़ में बेची है, लेकिन बाजार भाव में वह बेशकीमती जमीन है.

मुजफ्फरपुर महापाप से जुड़ी 50 से अधिक खबरों को एक साथ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें…

गौरतलब है कि सीबीआई ब्रजेश ठाकुर को रिमांड पर लेने की तैयारी कर रही है. रिमांड के लिए कोर्ट में आवेदन देने से पहले सीबीआई ने ब्रजेश ठाकुर की मेडिकल रिपोर्ट मांगी है. सीबीआई को पेशी के दौरान ब्रजेश ठाकुर को हंसता देख उसके बीमार होने पर भी शक है. बता दें कि इस मामले में कुल 11 लोगों पर प्राथमिकी दर्ज है. इनमें से 10 लोग गिरफ्तार हैं. वहीं एक अभियुक्त दिलीप वर्मा अभी भी फरार है. पुलिस डायरी में मधु के नाम आने के बाद पुलिस उसे भी तलाश रही है. इसी मामले में पति चंद्रशेखर वर्मा के ब्रजेश ठाकुर से फोन पर लगातार बात होने और बालिका गृह में जाने के आरोप में मंजू वर्मा ने मंत्री पद से इस्तीफा दे दिया है. इसे लेकर विपक्ष नीतीश सरकार पर लगातार हमला कर रहा है और मुख्यमंत्री से इस्तीफे की मांग कर रहा है.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*