2500 बीटीए, एटीए, लेखपाल एवं अनुसेवक के खाली पदों पर बहाली जल्द : कृषि मंत्री

फुलवारी शरीफ : बिहार सरकार के कृषि मंत्री डॉ॰ प्रेम कुमार ने घोषणा करते हुए कहा की राज्य में बीटीएम, एटीएम, लेखापाल एवं अनुसेवक के 2,500 खाली पदों पर सरकार जल्द ही बहाली करेगी ताकि राज्य में कृषि विभाग के योजनाओं में तेजी लायी जा सके. किसानों, बेरोजगारों के परिवार में इस बहाली से काफी खुशहाली भी आएगी. शनिवार को बामेती, पटना के सभागार में आयोजित राज्य में किसान उत्पादक संगठन/कृषक हितार्थ समूह/महिलाओं के लिए खाद्य सुरक्षा समूहों के गठन से सम्बन्धित विषय पर एक दिवसीय प्रशिक्षण कार्यक्रम के उद्घाटन के बाद मंत्री डॉ. प्रेम ने उक्त घोषणा की.

किसान ई-मार्केटिंग से बेचे उत्पाद

इस दौरान कृषि मंत्री ने कहा कि राज्य में आत्मा योजना के अंतर्गत प्रखण्ड स्तर पर तकनीकी मानवबल यथा प्रखण्ड तकनीकी प्रबंधक और सहायक तकनीकी प्रबंधक तथा कार्यालय कर्मी यथा लेखापाल एवं अनुसेवक की खाली पड़े 2500 से अधिक पदों पर तीन महीने में नियुक्ति की प्रक्रिया पूरी कर ली जायेगी. डॉ॰ कुमार ने कहा कि किसान भी ई-मार्केटिंग के माध्यम से अपने उत्पाद को उचित मूल्य पर बेचकर अपनी आमदनी बढ़ा सकते हैं.

अभी तक बिहार के विभिन्न जिलों में कुल 172 कृषक उत्पादक संगठन का गठन आत्मा द्वारा किया जा चुका है, शेष जिलों में इसके गठन की प्रक्रिया जारी है. नाबार्ड द्वारा भी 122 कृषक उत्पादक संगठन का गठन किया गया है. लघु किसान कृषि व्यापार संगठन, भारत सरकार की एक संस्था है जिसके माध्यम से कृषक उत्पादक संगठन को 10 लाख रूपये तक का अनुदान मिलता है. इसके लिए कृषक उत्पादक संगठन में उत्पादकों की संख्या कम-से-कम 50 होनी चाहिए.

आत्मा योजना के पदाधिकारियों के उन्नमुखीकरण हेतु एक दिवसीय प्रशिक्षण कार्यक्रम का मुख्य उद्देश्य प्रखण्ड स्तर पर 20-25 किसानों को मिलाकर 01 किसान हित समूह/महिलाओं के लिए खाद्य सुरक्षा समूह का गठन करना है जो किसानो को सरकार की नीतियों से अवगत कराएंगे. प्रत्येक प्रखंड में औसतन 10 किसान हित समूहों को समेकित कर एक कृषक उत्पादक संगठन का गठन करने का निदेश दिया गया है. यह संगठन किसानों के उत्पादन से लेकर विपणन तक की सभी समस्याओं का समाधान करेगी.

यह भी पढ़ें- RERA Approved वीआईपी रेजीडेंसी हो चला तैयार, अभी बुकिंग पर Alto Car फ्री

बोले सुशील मोदी : प्रॉब्लम से निजात दिलाने क लिए IIT स्टूडेंट्स करें नये-नये अनुसंधान

इस प्रशिक्षण कार्यक्रम में निदेशक बामेती, डॉ॰ जितेन्द्र प्रसाद, परियोजना निदेशक, आत्मा, अन्य विभागी पदाधिकारी सहित राज्य के सभी प्रखण्ड तकनीकी प्रबंधक (बी॰टी॰एम॰) एवं सहायक तकनीकी प्रबंधक (ए॰टी॰एम॰) ने भाग लिये.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*