चिराग पासवान बोले – तेजस्वी रखें भाषा पर संयम, मेरे चाचा उनके भी चाचा

चिराग पासवान

लाइव सिटीज, पटना से देवांशु प्रभात : पटना एयरपोर्ट पर पत्रकारों से बात करते हुए चिराग पासवान जमुई में अपनी जीत को लेकर आश्वस्त दिखे. उन्होंने कहा कि पिछली बार 2014 से बड़ी जीत 2019 में मुझे मिलेगी. हाजीपुर लोकसभा से नामांकन पर चिराग ने कहा मैं पूरी तरह आश्वस्त होकर कहता हूं कि मैं हाजीपुर से नामांकन नहीं करूंगा. मेरे ही कुछ लोग यह अफवाह फैला रहे हैं.

तेजस्वी यादव के बयान पर चिराग पासवान ने कहा कि उनको थोड़ा भाषा पर संयम रखना चाहिए. मेरे चाचा उनके भी चाचा हैं. उन्होंने कहा कि हाजीपुर से पशुपति कुमार पारस 15 अप्रैल को नामांकन करेंगे.

तेजस्वी को चिराग पासवान ने कहा कि वह मेरा छोटा भाई है और मेरे चाचा पशुपति कुमार पारस भी उनके चाचा के सामान्य है और यह ना बोले कि वह हॉस्पिटल में भर्ती हो जाएंगे और उनके जगह मैं नामांकन करूंगा.

वहीं, जमुई में कई जगहों पर वोट बहिष्कार पर चिराग पासवान से कहा कि कुछ सहयोगियों ने मेरे खिलाफ काम किया है. वोट बहिष्कार में उन्हीं लोगों का हाथ है. 23 तारीख को सारी बात स्पष्ट हो जाएगी.

ये भी पढ़ें : बिहार की जनता उड़ती चिड़िया को हल्दी लगाते हैं, राजनाथ सिंह आए ठगने : तेजस्वी यादव

ये भी पढ़ें : चिराग पासवान नहीं जायेंगे जमुई छोड़कर, सोशल मीडिया की अफवाहों का किया खंडन

सैनिकों द्वारा राष्ट्रपति को सैनिकों के नाम पर वोट मांगने के मामले पर दिए गए पत्र पर चिराग पासवान ने कहा, “देश के सेना कभी कमजोर नहीं थी मगर राजनीतिक इच्छा शक्ति कमजोर थी. मोदी सरकार में सेना का मनोबल बढ़ाने का काम किया है. इसका श्रेय मोदी को मिलना चाहिए.” योगी आदित्यनाथ द्वारा मोदी सेना भारतीय सेना को कहने के बयान पर चिराग ने कहा यह शब्द सही नहीं है सेना के लिए.

बता दें कि आज तेजस्वी यादव ने चिराग पसवान पर हमला करते हुए कहा है कि हाजीपुर में तरह -तरह की अफवाहें चल रही है. जमुई में भी लोग कह रहे हैं कि चिराग पासवान चुनाव हार गए हैं. इसलिए पशुपति पारस को अस्पताल में भर्ती हो जाएंगे और हाजीपुर से चिराग पासवान को आगे किया जाएगा.