चिराग पासवान का बड़ा बयान, बोले – मैं चाहता हूं LJP 7 सीटों पर लड़े चुनाव

CHIRAG
CHIRAG

लाइव सिटीज पटना से देवांशु प्रभात : जमुई से सांसद चिराग पासवान ने बड़ा बयान दे दिया है. आज पटना पहुंचे चिराग पासवान ने सीट शेयरिंग को लेकर बड़ा बयान दिया है. उन्होंने कहा कि वे चाहते हैं की उनकी पार्टी इस बार 7 से कम सीटों पर चुनाव नही लड़े. आपको बता दे किइससे पहले भी चिराग पासवान ने कहा था की वे अपनी पार्टी के लिए सम्मानजनक सीट चाहते हैं. हालांकि चिराग का ये बयान उनकी पार्टी की ओर से अधिकारिक बयान नही है. ये उनका नीजी मत है.बता दे कि कल ही चिराग के पिता और लोजपा सुप्रीमों रामविलास भी पटना पहुंचे हैं.

सात सीटों पर हम चुनाव लड़े

जानकारी के अनुसार आज पटना पहुंचे रामविलास के बेटे और सांसद चिराग पासवान ने सीट शेयरिंग के मामले पर बड़ा बयान दिया है. अपनी पार्टी के सीटों की मांग को लेकर उन्होंने अपना निजी मत रखा है. चिराग ने आज पटना एयरपोर्ट पर पत्रकारों से बात करते हुए कहा ​कि मैं चाहता हूं कि लोजपा आगामी लोकसभा चुनाव में सात सीटों पर चुनाव लड़े.उन्होंने कहा कि हमारी पार्टी सम्मानजनक कमप्रोमाइज करने को तैयार.वहीं एनडीए में सीटों के बटवारे को लेकर सांसद चिराग ने कहा कि सार्वजनिक तौर पर इस पर कोई आकंड़ा या सीटों की संख्या बताना उचित नहीं होगा.वही उन्होंने रामविलास के इस बार ​हाजिपुर से चुनाव नहीं लड़ने को लेकर कहा कि अभी एंसा कुछ क्लीयर नहीं हुआ है कि रामविलास हाजीपुर से चुनाव लड़ेंगे या नहीं.

उम्मीद कुशवाहा एनडीए में बने रहेंगे

पटना पहुंचे चिराग पासवान ने कुशवाहा को लेकर भी बयान दिया उन्होंने कुशवाहा और उनकीे पार्टी के रवैये को लेकर ऐसी बातों को तुल नहीं देना चाहिए. हम सब को संगठन के मजबूती के लिए काम करना चाहिए. वही चिराग ने आगे कहा कि उन्हे इस बात की उम्मीद और उपेक्षा है कि उपेंद्र कुशवाहा एनडीए का ही हिस्सा बन कर रहेंगे.

आपको बता दे कि कल रामविलास भी पअना पहुंचे थे. पत्रकारों द्वारा सीटो के बटवारे को लेकर सवाल पर पासवान ने कहा था कि इसे लेकर चिराग और पशुपतिपारस बीजेपी से बात कर रहे हैं. ऐसे में यह तो साफ हो गया था कि लोजपा की कमान अब चिराग के हाथों में पासवान सौंप रहे हैं. वही आज चिराग ने सीटों को लेकर जो बयान दिया है उससे भी ये क्लियर हो गया है.

बताते चले कि इससे पहले चिराग ने दिल्ली में कहा था कि संसदीय बोर्ड अध्यक्ष होने के नाते सात से भी ज्यादा सीट चाहूँगा. लेकिन गठबंधन की अपनी सीमाएं होती हैं. अपनी मजबूरियाँ होती हैं. आज की तारीख में हमारी प्राथमिकताएं गठबंधन को मजबूती देना और प्रधानमंत्री मोदी को फिर से बनाना है. इसके लिए जो भी सम्मानजनक समझौता होगा, उसके लिए हम तैयार हैं.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*