चिराग ने सीएम नीतीश को लिखा लेटर, कहा- NMCH से गायब कोरोना मरीज को सरकार ढूंढे

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क: दरअसल, मामला इस बार जो चिराग ने उठाया है वह उनके लोकसभा क्षेत्र का है. जमुई के अंतर्गत शेखपुरा निवासी रंजीत कुमार पिता स्व0 नन्द किशोर प्रसाद, वार्ड नं0 06, पोस्ट व थाना शेखपुरा का है. जिनका कैंसर का इलाज 6 माह से मुम्बई में चल रहा था. 25 जून 2020 को महावीर कैंसर संस्थान यह अपना चेकअप करवाने के लिए गए थे. जहां इनका कोरोना जांच हुआ. और यह पॉजिटिव पाए गए.

उसके बाद रंजित को शेखपुरा आइसोलेशन सेंटर में रखा गया लेकिन शेखपुरा आइसोलेशन सेंटर से पटना एनएमसीएच के लिए रेफ़र कर दिया गया. जिसके बाद 3 जुलाई 2020 को एनएमसीएच में इनको भर्ती करवाया गया. अचानक 6 जुलाई को जब इनके परिवार वाले हॉस्पिटल मिलने गये तो वहां रंजीत कुमार मौजूद नहीं थे.



तभी से रंजित का परिवार हॉस्पिटल के चक्कर लगा रहा है. रंजित की पत्नी अनिता, चिराग के पास 18 जुलाई को आयी और तब से सम्पर्क में है. अपने पति को पाने की लड़ाई प्रदेश सरकार और अस्पताल प्रशासन से लड़ रही हैं.

चिराग ने इस विषय में पीएमसीएच के सुप्रिटेंडेंट डीएम शेखपुरा से मामले की जानकारी विस्तार से ली है और अनिता की बात भी सबके सामने रखी है, लेकिन कोई इस परिवार का मदद करने नहीं आया.

यह घटना अस्पताल प्रशासन के ऊपर बड़ा सवाल उठता है कि मरीज़ कहां ग़ायब हो गया है. परिवार का आरोप है कि रंजित की मौत की हो गई है जिसे अस्पताल आंकड़े बढ़ने के डर से छुपा रहा है. इस मामले की जांच के लिए चिराग ने सीएम नीतीश को पत्र लिखा है.

जानकार बताते हैं कि नीतीश सरकार के एक मंत्री महेश्वर हज़ारी ने चिराग को कमजोर विद्यार्थी कहा था. जिसके बाद लोक जनशक्ति पार्टी भी नीतीश पर अटैक मूड में है.