सीवान : मृत महिला सिपाही स्नेहा के कमरे से मिला कीमती लहंगा, CID जुटी है जांच में

लाइव सिटीज, सीवान: पुलिस केंद्र में एक जून को मुंगेर की महिला सिपाही स्नेहा द्वारा अपने ही क्वार्टर में फांसी लगाकर आत्महत्या किए जाने मामले में पटना CID के डीआइजी पीएन मिश्रा ने दूसरे दिन सोमवार को भी इस मामले की गंभीरता से जांच की. इस दौरान वे सदर अस्पताल, एसपी कार्यालय, पुलिस लाइन स्थित स्नेहा के क्वार्टर पर पहुंचे.

डीआइजी सबसे पहले जांच के लिए एसपी कार्यालय पहुंचे जहां एसपी नवीनचंद्र झा से बातचीत की. साथ ही अबतक मिले साक्ष्य व रिपोर्ट की गहन समीक्षा की. इसके बाद वे सीधे सदर अस्पताल पहुंच गए. वहां सिविल सर्जन डॉ. अशेष कुमार से शव पोस्टमार्टम से संबंधित बातचीत की. जिसके बाद डीआइजी ने एसपी को साथ लेकर पुलिस लाइन स्थित महिला सिपाही के क्वार्टर की तलाशी ली.

 

स्नेहा जिस कमरे रहती थी उसमें उसका कीमती लहंगा हाथ लगा. साथ ही कमरे में रखे एक-एक सामान को उन्होंने बारीकी से देखा. डीआइजी ने बताया कि स्नेहा मामले को अब सीआइडी ने अपने हाथ में लिया हैं. इस केस की जांच शुरू हो गई है. पुराने जांच की भी समीक्षा की जा रही है. फॉरेंसिक टीम की जांच रिपोर्ट को नए सिरे से मंगवाया गया है. एसपी के साथ घटना स्थल का निरीक्षण किया है.

मजिस्ट्रेट बहाल कर सारे सामान को एक जगह किया जा रहा है. उसके परिजन को जो अभी देना होगा उसे दे दिया जाएगा. जो जांच के लिए रखना होगा इसको रखा जाएगा. महिला सिपाही बीमार थी. इस वजह से कोर्ट से ही उसे अवकाश मिला गया था. उसका इलाज चला रहा था. इलाज के सभी कागजात मिले गए हैं. स्नेहा के मोबाइल का सीडीआर निकाल गया है. कुछ लोगों के साथ ज्याद बात करने प्रणाम मिला है. उससे पूछताछ की जा रही है.

घर में से कीमती लहंगा मिला है. इससे लगा रहा है कि विवाह का उत्साह था. वह अपने भविष्य को ठीक करने की सोच में थी. ऐसा लगा रहा है कि कुछ दिक्कत में थी. जिस प्रकार महिला सिपाही के परिजन शव को लेकर विवाद खड़ा कर रहे हैं. इसकी जांच के लिए डीएनए टीम को बुलाया गया है, जो शव बरामदगी से लेकर सुपुर्द किए जाने तक शव का मिलान करेगी. वह स्पष्ट कर देगी कि परिजन तक पहुंचे स्नेहा के शव के उसके थे या किसी और के थे.

सीवान से आशीष की रिपोर्ट 

About परमबीर सिंह 1512 Articles
राजनीति, क्राइम और खेलकूद....

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*