गुरू गोविंद सिंह के 352वां प्रकाशोत्सव में पहुंचे सीएम नीतीश कुमार, टेका मत्था

नीतीश कुमार (फाइल फोटो)

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क : गुरु गोविंद सिंह का 352वां प्रकाश पर्व आज मनाया जा रहा है. शहर के प्रमुख चौराहे व गुरुद्वारों पर सजावट की गई है. आज रविवार को पूरा दिन जन्मोत्सव मनाया जाएगा. जन्मोत्सव में बिहार के सीएम नीतीश कुमार शामिल हुए. नीतीश कुमार ने गुरु गोविंद जी के दरबार में मत्था टेका. सीएम ने गुरुद्वारे में गुरुवाणी सुना. वहीं इस दौरान गुरुद्वारा प्रबंधन समिति ने CM को सम्मान में सिरोपा सौंपा.

सीएम नीतीश कुमार ने संबोधन में कहा कि बिहार गुरू गोविंद सिंह जी का जन्म स्थान है. यह बिहार के लोगों के लिए गर्व की बात है. पटना साहिब का इतिहास गौरवशाली रहा है. उन्होंने आगे कहा कि प्रकाशपर्व में श्रद्धालुओं की संख्या हर साल बढ़ रही है. सिख समाज के लोगों के प्रति सीएम ने आभार प्रकट किया. उन्होंने सभी सिख श्रद्धालुओं को बिहार की जनता की ओर से अभिनंदन किया.

सुबह 9 बजे अखंड पाठ साहिब का समापन हुआ. इसके बाद हजूरी रागी जत्था द्वारा शबद कीर्तन किया जा रहा है. रात 8 बजे से लंगर, 8 से 10 बजे तक बच्चों द्वारा, रात 10 से 11.30 बजे तक महिला सत्संग सभा द्वारा तथा 11.30 से 12 बजे तक हजूरी रागी जत्था द्वारा शबद कीर्तन किया जाएगा.

मध्य रात में फूलों की बरखा, अरदास व आतिशबाजी कर जन्मोत्सव मनाया जाएगा. समिति अध्यक्ष हरभजन सिंह सलूजा व मीडिया प्रभारी मनदीप सिंह गोत्रा ने बताया सोमवार को लोहड़ी पर्व पर दोपहर 3 बजे से रात 8:30 बजे तक चन्द्र भंवर में महिलाओं एवं बच्चों द्वारा सांस्कृतिक कार्यक्रम में प्रस्तुति दी जाएगी.


इधर प्रकाश पर्व को लेकर बिहार के राज्यपाल लालजी टंडन और सीएम नीतीश कुमार ने बिहार वासियों को सुभकामनाएं दी हैं. इधर प्रकाश पर्व को लेकर जत्थेदार ज्ञानी इकबाल सिंह के संचालन में विशेष दीवान आरंभ हुआ है. अरदास, हुकूमनामा व कड़ाह प्रसाद का वितरण किया गया. फिर सजे दीवान में शबद कीर्तन भाई बिक्रम सिंह रागी जत्था, गुरु शबद विचार शिरोमणि सिख प्रचारक ज्ञानी रणजीत सिंह गौहर-ए-मस्कीन, शस्त्र दर्शन के साथ अन्य धार्मिक आयोजन के बाद कीर्तन चौकी बिलावल भाई रजनीश सिंह, भाई ज्ञान सिंह, भाई नविंदर सिंह ने की.

गुरू गोविंद सिंह का 352वां प्रकाशोत्सव आज, गवर्नर लालजी टंडन-CM नीतीश ने दी शुभकामनाएं

शाम में कवि दरबार में अरदास, हुकुमनामा के बाद कथा गुरु इतिहास संत ज्ञानी गुरमीत सिंह जी खोशा कोटला ने पेश किया. कवि दरबार का उद्घाटन संत बाबा करमजीत सिंह यमुना नगर ने अरदास कर किया. इससे पहले तख्त साहिब में अरदास के बाद पंज प्यारों की अगुवाई में बड़ी प्रभातफेरी निकली. शनिवार को गुुरुद्वारा गाय घाट में अखंड पाठ व अरदास के बाद नगर कीर्तन निकला गया. वहीं आज रविवार को तख्त साहिब में अखंड पाठ के समापन के बाद मुख्य समारोह होगा.

About परमबीर सिंह 792 Articles
राजनीति, क्राइम और खेलकूद....

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*