कुछ लोग कह देते हैं कि हम नौकरी देंगे, जरा बताइए कि पैसा कहां से लाइएगा- नीतीश कुमार का विपक्ष पर हमला

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क:  सीएम नीतीश कुमार आज फिर से चुनावी प्रचार में निकले हुए हैं. सीएम आज 3 जिलों के पांच विधानसभा क्षेत्रों में जाकर जनसंवाद कर रहे हैं. इसी कड़ी में उन्होंने औरंगाबाद के रफीगंज में जनसभा की. जहां उन्होंने प्रत्याशी अशोक कुमार सिंह के लिए वोट मांगा.

सीएम ने कहा कि अगर अपने क्षेत्र का बेहतर विकास करना है तो अशोक कुमार जी को ही वोट दीजिएगा. आपको पता है कि हम बोलने में नहीं करने में विश्वास रखते हैं.  उन्होंने कहा कि हमने बिहार में काम करने में कोई कसर नहीं छोड़ा. पति-पत्नी की सरकार में महिलाओं को कोई सम्मान नहीं दिया जाता था, हमने उन्हें पंचायत राज में 50 प्रतिशत तक आरक्षण दिया. नीतीश कुमार ने कहा कि देख लीजिए आज के दौर में महिला जनप्रतिनिधि के रूप मे उभर रही हैं.  



बिहार में कोरोना को लेकर सीएम ने कहा कि थोड़ी परिस्थितियां अलग हैं. बिहार में उसके प्रसार के रोकथाम के लिए कठिन से कठिन कार्य हुए हैं. उन्होंने कहा कि टेस्टिंग में तो हम अभी देश में भी आगे चल रहे हैं. हमने कहा न्याय के साथ विकास करेंगे. आज की तारीख में हमने हर इलाके का विकास किया है. हर तबके का उत्थान, जो किनारे पर हैं, हाशिए पर हैं, कभी किसी की उपेक्षा नहीं की. उन्होंने कहा कि हम तो काम करते हैं, करते रहेंगे.

सीएम ने कहा कि अच्छा लगा देखकर कि महिलाएं स्वावलंवी हुई हैं. वर्ल्ड बैंक से कर्ज लेकर हम लोगों ने जीविका समूह का गठन किया और आज 10 लाख समूहों से 1 करोड़ 20 लाख से ज्यादा महिलाएं जुड़ गई हैं. उन्होंने कहा कि अल्पसंख्यक समुदाय की महिलाओं को विभिन्न योजनाओं के तहत सहायता दी गई, उन्हें रोजगार लगाने के लिए प्रेरित किया.

नीतीश कुमार ने कहा कि परित्यक्ता महिलाओं को 25 हजार रुपये की सहायता राशि दी. आज हजारों महिलाएं इसका लाभ उठा चुकी हैं. हमने सबको पढ़ाने का काम, सबको आगे बढ़ाने का काम किया है. हमारा एक ही कर्तव्य है कि हम सबकी सेवा करेंगे. हमने तय कर लिया है, अबकी बार मौका दीजियेगा तो हर खेत तक सिंचाई का पानी पहुंचा देंगे. कहीं भी सूखा नहीं रहने देंगे. सीएम ने कहा कि हर घर बिजली तो पहुंच गया. अब हर गांव में सोलर लाइट लगाएंगे. घर में लाइट बुझा दीजियेगा तो उसके बावजूद पूरा गांव रोशन रहेगा.

मुख्यमंत्री ने कहा कि कुछ लोगों को कुछ ज्ञान नहीं है. दावा कर रहे हैं कि इनती नौकरियां देंगे. पैसा कहां से आएगा और ऐसा न हो कि अपना अलग ही काम धंधा चालू कर लें. उन्होंने कहा कि कहने से कुछ होता है जी, करने का कुछ अनुभव हो, कुछ समझ हो.