कश्मीरियों पर हमला मामले में CM नीतीश ने लिया संज्ञान, DGP को दिया जांच का निर्देश

nitish-kumar-2
नीतीश कुमार (फाइल फोटो)

लाइव सिटीज, पटना : राजधानी में बीते शुक्रवार को लहासा मार्केट में कश्मीरी दुकानदारों से मारपीट का मामला मुख्यमंत्री नीतीश कुमार तक जा पहुंचा है. मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने इस मामले में अब खुद संज्ञान लेकर जांच के निर्देश दिए हैं. मिली जानकारी के अनुसार नीतीश कुमार ने डीजीपी गुप्तेश्वर पांडेय को इस मामले में जांच कर दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने के निर्देश दिए हैं. इस मामले में शामिल उन आरोपियों को चिन्हित कर कार्रवाई की जायेगी, जिन्होंने शुक्रवार को लहासा मार्केट में घुसकर कश्मीरी दुकानदारों के साथ मारपीट की थी और दुकानें भी बंद कराई थी.

गुरुवार 14 फ़रवरी को कश्मीर के पुलवामा में हुए आत्मघाती हमले में 40 CRPF के जवान शहीद हुए थे. इसके बाद से ही बिहार सहित देश भर में कई जगहों पर रह रहे कश्मीरियों के साथ मारपीट और उनपर हमले की घटनाएं सामने आयीं हैं. इन घटनाओं को लेकर सोशल मीडिया पर भी बहस तेज है. पटना के लहासा मार्केट में हुई घटना का वीडियो सोशल मीडिया में बहुत वायरल हुआ है.

जरूरी जानकारीः क्या है अनुच्छेद 35-A, क्यों मचा है इस पर बवाल, जम्मू-कश्मीर में हंगामा क्यों?

लहासा मार्केट की इस घटना के बाद पटना पुलिस हरकत में आई थी और इलाके में सुरक्षा व्यवस्था बढ़ाई गई थी. इस मामले में कश्मीरी दुकानदारों ने मीडिया से कहा था कि पुलवामा की घटना से वे भी आहत हैं. उन्होंने कहा कि हम सब भारतवासी हैं. बिहार से सैकड़ों लोग हर साल कश्मीर घूमने जाते हैं जो होटलों से ज्यादा हमारे घर पर रहन पसंद करते हैं. हमने भी पटना में कभी भेदभाव नहीं देखा.

इधर देशभर के अलग-अलग हिस्सों से कश्मीरी लोगों पर हमले की खबरें सामने आने के बाद केंद्र सरकार ने राज्यों को गाइडलाइन जारी की है. गृह मंत्रालय ने सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को कश्मीरी लोगों की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए कहा है. इसी मामले में सीआरपीएफ ने ‘मददगार’ नाम से एक हेल्पलाइन नंबर जारी किया है. कहा गया कि कश्मीर से बाहर रह रहे लोग शीघ्र सहायता के लिए 24 घंटे टोल फ्री नंबर 14411 या 7082814411 पर एसएमएस कर सकते हैं.

सांसद पप्‍पू यादव ने दी शहीद रतन कुमार ठाकुर के परिजनों को एक लाख रूपए की आर्थिक मदद

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*