लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क : मुख्यमंत्री नीतीश कुमार कश्मीरियों और धारा 370 के पक्ष में खड़े हैं. उन्होंने आज गुरुवार को फिर से ये बातें साफ़ की हैं. मुख्यमंत्री ने कहा है कि कश्मीरियों के साथ किसी भी प्रकार का भेदभाव देश में कहीं भी नहीं होना चाहिए. साथ ही उन्होंने कहा कि धारा 370 हटाये जाने की बात भी नहीं सोची जानी चाहिए. खासकर ऐसे माहौल में तो बिलकुल नहीं.

नीतीश कुमार ने आज जदयू कार्यालय में उद्योगपति नरेंद्र सिंह के स्वागत समारोह के दौरान कश्मीर पर ये बातें कहीं. उन्होंने आराम से बैठकर पत्रकारों के कई सवालों के जवाब दिए. इसी दौरान कई सवाल पुलवामा अटैक और कश्मीर जैसे मुद्दों को लेकर भी किये गए, जिसका उन्होंने बेबाक जवाब दिया.

जदयू में शामिल हुए नरेंद्र सिंह, कहा – बचपन से करता रहा हूं समाजसेवा, नीतीश कुमार हैं प्रेरणा

मुख्यमंत्री ने कहा कि पुलवामा हमले से पूरा देश आक्रोशित है. इस मसले पर राजनीति नहीं होनी चाहिए. लेकिन चुनाव का माहौल है तो घोषणा के पहले तक लोग कुछ न कुछ कमेंट करेंगे. जो कमेंट करते हैं, करें…. हम इस मसले पर कोई कमेंट नहीं करेंगे. जल्द ही चुनाव का घोषणा होने वाला है. फिर बात का डिस्कोर्स ही बदल जाएगा.

इस दौरान कश्मीर के अलगावादियों से सुरक्षा वापस लेने पर नीतीश कुमार ने कहा कि आतंक को रोकने के लिए केंद्र जो कर रही है, अच्छा है. अब आतंकी घटनाएं जहां से होती हैं तो वहां के बारे में लोगों के मन में कुछ बातें आती हैं. ऐसा कौन जगह नहीं है जहां एक सोच या विचारधारा के लोग नहीं रहते. लेकिन उनमें से कोई कुछ गलत कर दे तो सबके प्रति बुरा नहीं सोचा जाना चाहिए. कश्मीर में कोई घटना घट गई तो पूरे राज्य के लोगों के बारे में किसी को भी कोई गलत अवधारणा नहीं बनानी चाहिए.

कश्मीरियों पर हमला मामले में CM नीतीश ने लिया संज्ञान, DGP को दिया जांच का निर्देश

इसी क्रम में नीतीश कुमार ने कहा कि कश्मीर से धारा 370 को खत्म नहीं किया जा सकता है. धारा 370 का संविधान में प्रावधान है. खासकर ऐसे माहौल में तो इसे हटाने की बात भी नहीं होनी चाहिए. आतंकी गतिविधियों को रोकने के लिए धारा 370 हटाने की जरूरत नहीं है. हम इसको हटाने के खिलाफ हैं.