मुजफ्फरपुर में CM नीतीश का विपक्ष पर प्रहार, कहा- सिर्फ बोलने से नहीं होगा, करके दिखाना पड़ेगा

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क: सीएम नीतीश कुमार इन दिनों लगातार चुनावी प्रचार में जुटे हैं. इसी कड़ी मे नीतीश कुमार आज मुजफ्फरपुर के पारु विधानसभा पहुंचे और लोगों को संबोधित किया. उनके साथ केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद भी मौजूद थे. बता दें कि पारु से अशोक कुमार सिंह एनडीए से प्रत्याशी हैं.

अपने संबोधन के दौरान सीएम नीतीश कुमार ने लालू परिवार पर जमकर हमला बोला. उन्होंने कहा कि पहले प्रदेश की क्या हालत थी? लोग पहले शाम के बाद अपने घरों से निकलने में कतराते थे. लोगों हमेशा डर बना होता था कि कब किसका अपहरण हो जाए, किसी को पता नहीं होता था. उन्होंने कहा कि लेकिन हमने आते के साथ सबसे पहले कानून व्यवस्था पर काम किया. जितने भी पति-पत्नी के राज में जो बाहुबलि घूम रहे थे, आज सभी जेल के अंदर हैं.



हमने पहले ही कहा था कि हम न्याय के साथ विकास का काम करेंगे और न्याय के साथ विकास का मतलब हर क्षेत्र का विकास और हर तबके का विकास है. उन्होंने कहा कि हमने अतिपिछड़ा, अल्पसंख्यक और जो हाशिए पर हैं, हमने उसे भी मुख्यधारा से जोड़ने की कोशिश की. नीतीश कुमार ने कहा कि इस ऐतिहासिक धरती की उपेक्षा हुआ करती थी. लालटेन के सहारे लोगों को चलना पड़ता था. सभी को कितनी परेशानी हुआ करता थी.


सीएम ने कहा कि 15 साल लोगों ने राज किया. लेकिन जिसने वोट दिया, उन्हीं को भूल गए. जो व्यक्ति हाशिए पर था, उसे दरकिनार करते गए. बिहार के मुखिया ने कहा कि कुछ लोगों ने सिर्फ अपने बारे में सोचा. उन्हें बिहार की जनता से कोई सरोकार नहीं था. लेकिन जबसे आपने हमें काम करने का मौका दिया, तब से लेकर आज तक हम बिहार को अपना परिवार मानकर काम करते रहे.

सीएम नीतीश कुमार ने कहा कि हमने महादलितों के उत्थान के लिए काम किया. समाज के हरेक इंसान के लिए हमने काम किया. लेकिन कुछ लोग बस वोट के लिए प्रचार कर रहे हैं. उन्होंने कहा कि उनका काम है बिना मतलब का बोलना. अगर हमारे बारे में उनको बोलने से प्रचार मिलता है. तो बोलते रहे. मुझे इन सब बातों में नहीं पड़ना है. सीएम ने कहा कि हम पहले से ही कहते आ रहे हैं कि हमें सिर्फ काम से मतलब है. नीतीश कुमार ने तेजस्वी यादव पर हमला करते हुए कहा कि कुछ लोग 10 लाख रोजगार देने की बात कर देते हैं. जरा बताइए साहब कि पैसा कहां आएगा. सिर्फ ऐलान कर देने से होता है क्या?