पंडारक हत्याकांड : CM नीतीश को हाईकोर्ट से मिली बड़ी राहत, नहीं चलेगा मुकदमा

पटना हाईकोर्ट (फाइल फोटो)

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क : पटना हाईकोर्ट से शुक्रवार को सीएम नीतीश कुमार को बड़ी राहत मिली हैं. बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की आपराधिक याचिका पर पटना हाईकोर्ट में आज सुनवाई हुई. जस्टिस ए अमानुल्लाह ने पंडारक हत्याकांड में सीएम के खिलाफ दायर याचिका पर सुनवाई की. उनके विरुद्ध बाढ़ की निचली अदालत द्वारा लिए गए संज्ञान को रद्द कर दिया. बता दें कि जस्टिस ए अमानुल्लाह की एकल पीठ ने नीतीश कुमार की याचिका पर सुनवाई पूरी कर फैसला सुरक्षित रखा था.

आपको बता दें कि 1991 लोकसभा उपचुनाव में वोट देकर लौट रहे एक व्यक्ति की हत्या कर दी गई थी. इस हत्या का आरोप नीतीश कुमार पर लगा था. पटना जिले के बाढ़ अनुमंडल में स्थित पंडारक थाना में उस दिन ही प्राथमिकी दर्ज करायी गई थी. जिसमें अन्य लोगों के अलावे वर्तमान सीएम नीतीश को आरोपी बनाया गया था.

ये भी पढ़ें : लोकसभा चुनाव 2019 : JDU का नया स्लोगन, सच्चा है अच्छा है, चलो नीतीश के साथ चलें

बाद में बाढ़ के तत्कालीन ACJM एक 2009 में दायर परिवाद पत्र के आधार पर नीतीश कुमार के विरुद्ध संज्ञान लिया था. इसे रद्द कराने के लिए नीतीश कुमार ने 2009 में ही पटना हाईकोर्ट में याचिका दायर की. जस्टिस ए अमानुल्लाह ने नीतीश कुमार की याचिका पर सभी पक्षों को सुनने के बाद फैसला 31 जनवरी 2019 को सुरक्षित रखा था.

जानें क्या था मामला…

बता दें कि 1991 के बाढ़ लोकसभा उपचुनाव हो रहा था. बाढ़ के एक गांव ढीवार के सीताराम सिंह अपने भाई के साथ वोट देने गए. जब सीताराम सिंह वोट दे कर लौट रहे थे तभी उनकी गोली मरकर हत्या कर दी गई. इस हत्या का आरोप नीतीश कुमार पर लगा था.

ये भी पढ़ें : नागमणि बोले- सीएम नीतीश बढ़ाएं उपेंद्र कुशवाहा की सुरक्षा, होने वाला है जूते-चप्पल से स्वागत

इस मामले को लेकर उस समय मृतक के भाई अशोक सिंह ने नीतीश कुमार सहित कुछ अन्य लोगों पर हत्या का मुकदमा दर्ज कराया था. 1 सितम्बर 2009 को बाढ़ कोर्ट के तत्कालीन एसीजेएम रंजन कुमार ने इस मामले में तत्कालीन मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को दोषी पाते हुए उनपर इस मामले में ट्रायल शुरू करने का आदेश दिया था. बाद में इस मामले का हाईकोर्ट में स्‍थानांतरित करा दिया गया. जिसका फैसला आज आया.

About परमबीर सिंह 1140 Articles
राजनीति, क्राइम और खेलकूद....

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*