कैमूर में 3 स्वास्थ्य केंद्रों पर कोरोना वैक्सीनेशन का हुआ ड्राई रन, चयनीत लोगों पर किया गया पूर्वाभ्यास

लाइव सिटीज, कैमूर/भभुआ(ब्रजेश दुबे): जिले में आज 3 स्वास्थ्य केंद्रों पर कोरोना वैक्सीनेशन का ड्राई रन हुआ. सरकार की गाइडलाइंस के अनुसार सबसे पहले स्वास्थ्य कर्मियों को कोराना वैक्सीन लगाना है. जिसे लेकर शुक्रवार को कैमूर जिले के 3 प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र भभुआ, चैनपुर एवं अनुमंडल अस्पताल मोहनिया को चयनित किया गया था. प्रत्येक स्वास्थ्य केंद्र पर पच्चीस पच्चीस लोगों को कोरोना वैक्सीन के ड्राइ रन के लिए चयनित किया गया. जो टीका देने से लेकर अपलोड करने तक का जिम्मेवारी लेंगे. इसके साथ ही आने वाली परेशानी का  विस्तार से जानकारी दिया जायेगा.

कोरोना वैक्सीननेशन के ड्राई रन के समय कैमूर जिले के सिविल सर्जन डॉ अरुण तिवारी एवं डीपीएम मौजूद रहें. सिविल सर्जन अरुण तिवारी ने बताया कि जिन लोगों को चिन्हित किया गया है उन्हीं लोगों पर वैक्सीनेशन मॉक ड्रिल कराया जा रहा है. अगर किसी प्रकार की कोई समस्या आती है तो हम लोग पूर्व आकलन करके सावधान हो जायेंगे. जिन लोगों का मॉक ड्रिल कराया गया है उन्हीं लोगों को पहले वैक्सिंग लगाया जायेगा.



बता दें कि कोरोना वैक्सीनेशन के दूसरे चरण का ड्राई रन सफल रहा. बिहार के 114 स्थानों पर इसे किया गया. पटना में जहां 4 चयनित केंद्रों पर टीकाकरण को लेकर ड्राई रन हुआ, वहीं राज्य के सभी जिलों में तीन प्रकार के सत्र स्थलों पर ड्राई रन सफल रहा. इनमें 30 सरकारी जिला अस्पताल, 9 मेडिकल काॅलेज सह अस्पताल, 16 निजी अस्पताल, 23 ग्रामीण एवं शहरी वाह्य सत्र एवं 36 अन्य स्थलों पर किया गया. इस संबंध में स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडेय ने आज हुए ड्राई रन पर संतोष जताया. उन्होंने कहा कि ड्राई रन को लेकर जहां मुख्यालय स्तर पर माॅनिटरिंग होती रही, वहीं स्वास्थ्य विभाग के वरीय अधिकारियों ने विभिन्न जगहों पर जाकर ड्राई रन का जायजा भी लिया.

वैक्सीनेशन को लेकर केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय से लगातार मदद और मार्गदर्शन प्राप्त हो रहा है. इसके अलावा जरूरी संसाधन भी मुहैया कराया गया है. ड्राई रन के आधार पर ही आगे भी वैक्सीनेशन का काम होना है, इसलिए दूसरे चरण के ड्राई रन के दौरान केंद्र सरकार की गाइडलाइन का पूरा ख्याल रखा गया. आगे भी गाइड लाइन के अनुसार वैक्सीनेशन का काम होगा. इसके लिए सभी स्वास्थ्यकर्मियों को निर्देश दिया गया है कि को-विन पोर्टल में पंजीकृत लाभार्थियों का वैक्सीनेशन होगा. साथ ही किसी भी प्रकार की परेशानी होने इसकी जानकरी वरीय अधिकारियों को दें. वैक्सीनेशन एवं अन्य कार्यों के लिए पूर्व में ही सभी स्वास्थ्यकमियों को कई चरणों में प्रशिक्षित किया जा चुका है. दूसरे चरण के ड्राई रन में भी सोशल डिस्टेंसिंग एवं सरकार के आवश्यक दिशा-निर्देशों का पालन किया गया. सभी 38 जिलों में प्रत्येक जिले के सिविल सर्जन, जिला प्रतिरक्षण पदाधिकारी, अपर मुख्य चिकित्सा पदाधिकारी एवं अन्य अधिकारियों ने सत्र स्थल पर मौजूद रहकर ड्राई रन को सफल बनाया.