अररिया में कोरोना का खौफनाक चेहरा, तीन बच्चों के सर से उठा माता-पिता का साया, बेटी ने खुद गड्ढा खोद मां को दफनाया

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क: कोरोना का कहर अपने चरम पर है। हर दिन ही दिल दहला देने वाली तस्वीरें देखने को मिल रही हैं। ऐसी ही एक तस्वीर अररिया के रानीगंज से आई है। यहां कोविड संक्रमित पति-पत्नी की मौत चार दिनों के अंतराल पर ही हो गई। बीते सोमवार को पहले पति की जान गई, फिर शुक्रवार की सुबह पत्नी ने भी दम तोड़ दिया।इस घटना के बाद परिजन के घरों में कोहराम मचा है। मृतक के तीन छोटे-छोटे बच्चे है। मृत दंपति की बड़ी बेटी सोनी ने पीपीई किट पहनकर अपनी मां के शव को गड्ढे में दफन किया।

वहीं ग्रामीणों के मुताबिक दोनो पति-पत्नी 28 अप्रैल को एक साथ कोरोना  संक्रमित हुए थे। इसके बाद दोनों को इलाज के लिए पूर्णिया ले जाया गया। पूर्णिया में इलाज के दौरान तीन मई को पति की मौत हो गयी। इसके बाद पत्नी का इलाज जारी था। इस दौरान परिजनों के पास इलाज केलिए पैसे नहीं होने के कारण पत्नी को हॉस्पिटल से बुधवार को घर लाया गया। 

इसी बीच पत्नी की तबियत काफी बिगड़ने लगी। स्थानीय मुखिया सरोज कुमार मेहता की मदद से उसे इलाज के लिए अनुमंडल अस्पताल फारबिसगंज ले जाया गया। फारबिसगंज में गंभीर स्थिति को देखते हुए चिकित्सकों ने बेहतर इलाज के लिए मधेपुरा रेफर कर दिया। मधेपुरा जाने के दौरान रास्ते मे ही पत्नी की मौत हो गयी। 

कोरोना संक्रमण की वजह से गांव में कोई भी प्रियंका के अंतिम संस्कार में सहयोग करने को राजी नहीं हुआ। ऐसी स्थिति में बड़ी बेटी सोनी कुमारी ने ही किसी तरह गड्ढा खोद और खुद पीपीई कीट पहन मां के शव को दफनाया। अब चिंता इस बात की है कि दो बेटी व एक बेटा किसके सहारे रहेंगे।