पेशी के बाद न्यायिक हिरासत में चंद्रशेखर वर्मा, अगली सुनवाई 19 को

लाइव सिटीज.सेंट्रल डेस्क: आर्म्स एक्ट मामले मे हिरासत में लिए गए बिहार सरकार की पूर्व मंत्री मंजू वर्मा के पति चंद्रशेखर को न्यायिक हिरासत में भेज दिया है. कार्ट में आज पेशी क बाद उसे न्यायिक हिरात में भेजा गया है. बता दे कि उधर पूर्व मंत्री मंजू वर्मा की भी कोर्ट के सामने सरेंडर करने की खबरें आ रहीं थी. लेकिन उनकी ओर से कोर्ट में अर्जी डालकर समय मांगा है. बता दे कि कुछ दिन पहले ही फरार चल रहे मंजू वर्मा के पति ने कोर्ट के सामने पुलिस द्वारा दबाव बनाने के बाद सरेंडर कर दिया था.

अगली सुनवार्इ् 19 नवंबर को

आपको बता दे कि कोर्ट के सामने सरेंडर करने के बाद आज चंद्रशेखर को बेगूसराय के मंझौल अनुमंडल न्यायालय में पेश किया गया. इस दौरान मंजू वर्मा को लेकर किए गए सवाल के जवाब में चंद्रशेखर ने कहा कि उनके खिलाफ न्यायिक प्रक्रिया के तहत वारंट जारी हुआ है. वे न्यायिक प्रक्रिया की जरूरत के हिसाब से ही आत्मसमर्पण करेंगी. वही कोर्ट ने आज की सुनवाई में चंद्रशेखर को न्यायिक हिरासत में भेज दिया है. कोर्ट इस मामले में अब अगली सुनवार्इ् 19 नवंबर को करेगी.

सरेंडर की खबरों के बाद कोर्ट में डाली गई अर्जी

बता दें कि इससे पहले पुलिसिया दबाव के बाद मंजू के पति चंद्रशेखर वर्मा ने बेगूसराय कोर्ट में सरेंडर किया था. अब खबरें हैं कि मंजू वर्मा भी सरेंडर कर सकती हैं. बता दे कि आज कोर्ट में पेशी के दौरान मंजू वर्मा के पति चंद्रशेंखर ने कहा कि न्यायिक प्रक्रिया के तहत उनपर वारंट जारी हुआ है. वे न्यायिक प्रक्रिया के अंतर्गत ही आत्मसमर्पण करेंगी.

वहीं आज ही मंजू वर्मा के वकील ने मंझौल कोर्ट में उन्हे फरार घोषित न करने और कुर्की नहीं करने की मांग को लेकर अर्जी डाली है.जिसे लेकर कोर्ट ने अपना फैसला सुरक्षित रख लिया है. कोर्ट में दी गई इस अर्जी में बिहार सरकार की पूर्व मंत्री वर्मा के लिए कोर्ट से समय मांगा गया है. साथ हीं कोर्ट से उनकी सम्पत्ति की कुर्की और इसके लिए इश्तेहार निकालने को लेकर भी रोक लागने की मांग की हैं.उन्होने अपनी अर्जी में कहा है कि मंजू वर्मा ने सुप्रीम कोर्ट में जमानत की अर्जी डाली हे इस लिए उन्हे फरारी घोषित नहीं किया जा सकता.

सुप्रीम कोर्ट ने बिहार सरकार को लगाई थी फटकार

बताते चलें कि बिहार के मुजफ्फरपुर बालिका गृह रेपकांड में सुप्रीम कोर्ट ने बिहार सरकार के जवाब पर हैरानी जताई थी.मामले में बिहार सरकार ने सुप्रीम कोर्ट को बताया कि पूर्व मंत्री मंजू वर्मा कहीं छिप गई हैं. वह हमें मिल नहीं पा रही हैं. इस जवाब पर सुप्रीम कोर्ट ने हैरानी जताई और कहा कि बड़ी अजीब बात है. बिहार सरकार को पता ही नहीं कि उसकी पूर्व मंत्री कहां हैं. इसका मतलब बिहार में सबकुछ सही नहीं चल रहा है. राज्य सरकार की ओर से वकील रंजीत कुमार ने कहा कि पूर्व मंत्री का ढूंढने के प्रयास हो रहे हैं.

इससे पहले बिहार के मुजफ्फरपुर शेल्टर होम में बालिकाओं के साथ यौन शोषण के मामले में मंजू वर्मा की गिरफ्तारी न होने पर कोर्ट ने कड़ी नाराजगी जताई थी. सुप्रीम कोर्ट ने बिहार सरकार से कहा कि मंजू वर्मा बिहार सरकार की ही पूर्व मंत्री हैं, कोई भगोड़ा नहीं. बिहार सरकार कल तक बताए कि मंजू वर्मा के मामले में क्या हुआ है. सुप्रीम कोर्ट ने मामले के मुख्य अभियुक्त बृजेश ठाकुर को बिहार से पंजाब की पटियाला जेल में शिफ्ट करने का आदेश दिया था.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*