अब तो दिल्ली हाईकोर्ट ने भी कह दिया ‘तीर’ पर नीतीश कुमार का हक़, शरद गुट को झटका

jdu12

लाइव सिटीज डेस्क : दिल्ली से बड़ी खबर है. जदयू पार्टी चिन्ह ‘तीर’ की लड़ाई दिल्ली हाई कोर्ट पहुंची थी. लेकिन यहां भी शरद गुट को झटका लगा है. दिल्ली हाई कोर्ट ने इस केस को ही निरस्त कर दिया है. बता दें कि बीते बुधवार यानी 22 नवंबर को भी इस मामले पर सुनवाई हुई थी. जिसमें कोर्ट ने चुनाव आयोग से फैसले की डिटेल कॉपी की मांग की थी. और गुरुवार को अगली सुनवाई की डेट दी गई थी. जहां शरद यादव के गुट को झटका मिला. कोर्ट ने इस केस को ही निरस्त कर दिया. मतलब, अब जदयू का तीर नीतीश कुमार की पार्टी के पास ही रहेगा.

बता दें कि चुनाव आयोग से झटका मिलने के बाद शरद यादव ने कहा था कि जदयू के पार्टी निशान पर चुनाव आयोग के फैसले से रास्ता खत्म नहीं हो जाता है. उन्होंने कहा कि कौन सही है और कौन गलत यह देश की जनता तय करेगी.शरद यादव ने आगे लिखा कि मेरी लड़ाई किसानों, आम आदमी, गरीब, निचला तबका, के हक़ के लिए जारी रहेगी. युवाओं को रोजगार मिले इसके लिए जंग रुकेगा नहीं. उन्होंने दिल्ली हाई कोर्ट का रुख किया था.

मालूम हो कि पिछले शुक्रवार को चुनाव आयोग ने नीतीश कुमार की जदयू के हक़ में फैसला सुनाया था. इस तरह शरद बनाम नीतीश गुट में जदयू सुप्रीमो नीतीश कुमार ने बाजी मार ली. इसे लेकर बिहार की सियासत में अचानक सरगर्मी बढ़ गयी है.

गौरतलब है कि चुनाव चिह्न तीर को लेकर जदयू में पिछले दो तीन माह से घमासान मचा हुआ था. यह घमासान अपने अपने अस्तित्व को लेकर था. इसे लेकर 13 नवंबर से 15 नवंबर तक दिल्ली स्थित चुनाव आयोग के कार्यालय में मैराथन सुनवाई हुई. दोनों गुटों के वकीलों ने अपनी अपनी बातें रखीं. शरद गुट की ओर से वरीय वकील कपिल सिब्बल थे तो नीतीश गुट की ओर से राकेश दुबे थे. इसके पहले 7 नवंबर को भी सुनवाई हुई थी.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*