लाइव सिटीज डेस्क: पटना विश्वविद्यालय को सेंट्रल यूनिवर्सिटी बनाने के लिए उप राष्ट्रपति कार्यालय से प्रस्ताव मांगा  है.  पटना विश्वविद्यालय को सेंट्रल यूनिवर्सिटी बनाने के लिए उपराष्ट्रपति के कार्यालय ने राज्य सरकार से पूछताछ की है. उपराष्ट्रपति के कार्यालय ने पूछा है कि पटना विवि को सेंट्रल यूनिवर्सिटी बनाने को लेकर काफी मांग हुई. उपराष्ट्रपति कार्यालय ने यह पूछा है कि पटना विवि को सेंट्रल यूनिवर्सिटी बनाने के लिए विवि प्रशासन से अब तक कोई  कागजात नहीं मिला है.

इसकी जानकारी पटना विवि के कुलपति प्रो रास बिहारी  प्रसाद सिंह को मिल गयी है. वहीं, विवि के डीन स्टूडेंट वेलफेयर प्रो एनके  झा ने कहा कि पटना विवि को सेंट्रल यूनिवर्सिटी बनाने को लेकर प्रस्ताव  तैयार किया जायेगा. छात्र संघ चुनाव समाप्त होने के बाट कमेटी गठित करने की बात कुलपति ने कही है. अब इस दिशा में जल्द काम शुरू हो जायेगा.

वही मामले पर चार अगस्त को पटना विवि की सेंट्रल लाइब्रेरी के शताब्दी  वर्ष समारोह में उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू ने पटना विवि को सेंट्रल  यूनिवर्सिटी का दर्जा दिलाने में मदद करने की बात कही थी. उन्होंने कहा था कि इस संबंध में राज्य सरकार केंद्र को भेजे. जो भी संभव होगा, मैं इसके  लिए प्रयास करूंगा. केंद्रीय मानव संसाधन मंत्री को बुलाकर इस मसले पर बात  करूंगा

बता दें कि बीते 14 अक्तूबर 2017 को जब सीएम नीतीश कुमार ने पीएम मोदी को पीयू को  20 वर्ल्ड क्लास विवि में शामिल होने की दी थी नसीहत लो पीएम ने यह कहकर मामले को टाल दिया था कि केंद्र सरकार सेंट्रल  यूनिवर्सिटी से भी बड़ी चीज देने जा रही है. पीएम मोदी ने उस दौरान कहा था कि केंद्र सरकार देश के 10 सरकारी और 10 प्राइवेट यूनिवर्सिटी को पांच सालों के लिए 10,000 करोड़ रुपये देगी. इससे यूनिवर्सिटी का सर्वांगीण विकास हो सकेगा. पटना विवि को चुनौती देता हूं कि वह देश के 20 वर्ल्ड क्लास विवि में अपना नाम दर्ज कराएं.