डेंगू का कहर बिहार में जारी, हजार के पार पहुंचा मरीजों का आंकड़ा

dengue
dengue

लाइव सिटीज.सेंट्रल डेस्क: बिहार में डेंगू का प्रकोप बढ़ता जा रहा है. डेंगू बड़ी तेजी से बिहार के कोने—कोने में अपने पैर पसार रहा है. वहीं बिहार की सरकार इसे हल्के में ले रही है. सरकार दावो कर रही है कि राल्य में डेंगू का कहर नहीं हैं लेकिन सरकार को दावों की पोल चखोलते हुए डेंगू ने बिहार में लगभग 1526 लोगों को अपनी चपेट में ले लिया है. वही सबसे बड़ी बात ये है कि बिहार के अस्पतालों में डेंगू के मरीजों के लिए जितने बेडों की व्यवस्था है वे सारे के सारे फुल हो चुके हैं.

अभी तक 10 से ज्यादा मौंते डेंगू से हुई हैं

आपको बता दे कि बिहार में अभी तक 10 से ज्यादा मौंते डेंगू से हुई हैं. वहीं अगर सरकारी आकड़ों को देखें तो ओर इनपर विश्वास करें तो बिहार में अभी तक 1526 डेंगू से पीड़ित मरीज हैं. जिनमें से सबसे ज्यादा मीरीज राजधानी पटना में हैं. कुल मरीजों में 915 मरीज ऐसे हैं जिनमें डेंगू की पुष्टि हो चुकी है. वहीं 551 मरीजों में संदेहास्पद डेंगू यानि एनएस1 पाया गया है. पटना जिले में मरीजों के आंकड़े 609 हैं तो नालंदा में 38, सीवान में 51 और वैशाली में 23 मरीजों में डेंगू की पुष्टि हो चुकी है.

डेंगू के बढ़ते प्रभाव के कारण हालात ये हैं कि क्या सरकारी और क्या निजी सभी अस्पतालों में अब भी मरीजों में लगातार बढ़ोंतरी हो रही है. सभी बेड फुल हैं. हैरानी की बात तो ये है कि तापमान में गिरावट के बाद में डेंगू पर ब्रेक नहीं लग रहा है और एडिस मच्छर का कहर जारी है.आपको बता दे कि सरकारी आंकड़ें तो बता रहे हैं कि 1526 लोग डेंगू से पीड़ित हैं लेकिन कइ्र प्राइवेट अस्पताल इसकी संख्या और ज्यादा बता रहे हैं.

भले ही बिहार में डेंगू के प्रकोप से 10 मौते हुई हो और मरीजों की संख्या में दिन—प्रतिदिन बढ़ोतरी होती जा रही हो, लेकिन बिहार का स्वास्थ्य विभाग डेंगू से हो रही मौतों को लेकर गंभीर नहीं है और एक भी मौत की पुष्टि नहीं कर रहा है. बता दे कि पीछले हफ्ते बिहार में पुलिस विद्रोह का कारण भी एक महिला कांस्टेबल की डेंगू से मौत ही थी. डेंगू पीड़ितों की संख्या तो बढ़ रही है लेकिन डेंगू के पीछे—पीछे चिकनगुनिया भी धीरे—धीरे अपने पैर पसार रहा है.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*