सुशील मोदी ने लॉन्च की अपनी किताब ‘लालू लीला’, सनसनीखेज खुलासों की दास्तान

politics,news,state,Bihar politics, Patna politics, Bihar top, Bihar deputy CM, Sushil kumar modi, Lalu leela, Lalu prasad yadav, release today, सुशील कुमार मोदी, लालू लीला, लालू प्रसाद यादव, लोकार्पण आज

लाइव सिटीज, पटनाः सुशील मोदी ने राजद अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव पर लिखी अपनी किताब लालू लीला का विमोचन कर दिया. इस किताब के माध्यम से सुशील मोदी लालू के बारे में कई अहम राज बताये. इस किताब में लालू यादव के घोटाले, उनके परिवार के सदस्यों से इसका संबंध और लालू के 15 सालों के राज के दौरान बिहार की दुर्दशा के बारे में बताया गया है.

किताब के विमोचन में बीजेपी और जेडीयू के कई नेता शामिल हुए हैं. केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद, राधामोहन सिंह, रामकृपाल यादव, गिरिराज सिंह सहित कई दिग्गज मंच पर मौजूद रहे. राजद के विरोध को देखते हुए इस मौके पर सुरक्षा के भी पुख्ता इंतजाम किए गए हैं. इसके साथ ही विद्यापति भवन तथा पटना में प्रभात प्रकाश की दुकानों पर भी सुरक्षा बढ़ा दी गई थी.

300 पृष्ठों में लिखी गई है किताब

लंबे समय तक लालू यादव की राजनीति को करीब से देखने वाले सुशील मोदी द्वारा रचित इस पुस्तक का नाम ‘लालू लीला’ है. जो 300 पृष्ठों में लिखी गई है. सुशील मोदी ने लालू प्रसाद की राजनीतिक गतिविधियों को लेकर ये पुस्तक लिखी है. हो सकता है ये पुस्तक लालू यादव और उनके परिवार के लिए नई मुसीबत खड़ी कर दे.

क्या है पुस्तक में

बताया जाता है कि पुस्तक में राजद अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव द्वारा विधायक, पार्षद, सांसद और मंत्री बनाने के एवज में रघुनाथ झा, कांति सिंह जैसे कई नेताओं से जमीन-मकान दान में लिखवाये जाने का जिक्र किया गया है. साथ ही भ्रष्टाचार से कमाये गये काले धन को सफेद करने के लिए बीपीएल श्रेणी के ललन चौधरी, रेलवे के खलासी हृदयानंद चौधरी तथा भूमिहीन प्रभुनाथ यादव, चंद्रकांता देवी, सुभाष चौधरी आदि से नौकरी तथा ठेका या अन्य लाभ पहुंचाने के एवज में कीमती जमीन-मकान दान के जरिये हासिल किये जाने की भी बात होगी.

यह भी पढ़ें- ‘लालू लीला’ पर शुरू हुई सियासत, RJD बोली- सुशील मोदी खुद पर लिखे किताब, वो हैं कौन

लालू परिवार ने बेनामी संपत्ति हासिल करने के लिए रिश्तेदारों को कैसे माध्यम बनाया, इसका भी खुलासा पुस्तक में किया गया है. भाई के समधियाने, अपनी ससुराल, बेटी की ससुराल के रिश्तेदारों के नाम से पहले अपने कालेधन से जमीन-मकान खरीदे और बाद में पत्नी, बेटों और बेटियों के नाम गिफ्ट करा लिये. ऐसे करीब दर्जनभर मामलों को पुस्तक में उजागर किया गया है. यही नहीं, लालू प्रसाद यादव ने मुखौटा कंपनियों का इस्तेमाल कर कैसे संपत्ति बनायी गयी, इसका भी उल्लेख इस पुस्तक में किया गया है.

About Razia Ansari 1935 Articles
बोल की लब आज़ाद हैं तेरे, बोल जबां अब तक तेरी है

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*