मुंगेर विश्वविद्यालय बना राजनीति का अखाड़ा, जमालपुर कॉलेज के प्रिंसिपल को मिली धमकी

इसी कॉलेज के एक भवन में होता है मुंगेर यूनिवर्सिटी का संचालन...

लाइव सिटीज डेस्क : बिहार के मुंगेर जिले से बड़ी खबर आ रही है. मुंगेर के जमालपुर कॉलेज में पद को लेकर विवाद छिड़ गया है. मुंगेर विश्वद्यालय के DSW पर दवाब बनाने का आरोप लगाया गया है. इतना ही नहीं, DSW ने जमालपुर कॉलेज के प्रिंसिपल को ‘पागल’ तक बोल दिया है. वह भी एक-दो बार नहीं, बल्कि कई बार. प्रिंसिपल ने धमकी देने की भी बात कही है. इसे लेकर जमालपुर कॉलेज के प्रिंसिपल ललन प्रसाद सिंह ने मुंगेर विश्वविद्यालय के कुलपति रंजीत वर्मा से इंसाफ की गुहार लगाई है. उन्होंने यहां तक कहा है कि यदि इंसाफ नहीं मिला तो वे थाना प्रभारी और एसपी से भी गुहार लगाएंगे. ​​

जमालपुर कॉलेज के प्रिंसिपल ललन प्रसाद सिंह ने मुंगेर विश्वविद्यालय के डीएसडब्लू कमल किशोर सिन्हा पर धमकी देने का आरोप लगाया है. उन्होंने कहा कि कमल किशोर सिन्हा की पत्नी रूबी देवी जमालपुर कॉलेज में अवैध रूप से काम कर रही हैं. रूबी देवी का दवाब है कि उनका नाम प्रोफेसर के स्वीकृत पद पर भेजा जाए. प्रिंसिपल ने बताया कि इतिहास विभाग में महज दो ही पद स्वीकृत हैं, जिन पर पहले से ही डॉ ओमप्रकाश यादव और डॉ रामशरण सिंह पहले से ही पदस्थापित हैं. ऐसे में रूबी कुमारी का नाम नहीं भेजा जा सकता है.

प्रिंसिपल ललन सिंह ने यह भी बताया कि इसी को लेकर 6 जुलाई को DSW कमल किशोर सिन्हा ने कॉलेज के सहायक वरूण कुमार सिन्हा के मोबाइल फोन पर कॉल कर हमसे बात की. उन्होंने मुझे फोन पर DSW ने धमकी दी. मुझे अनगिनत बार पागल कहा. इतना ही नहीं, DSW ने मुझे पद से हटा देने की भी बात कही. उनका कहना है कि यदि रूबी सिन्हा का नाम नहीं भेजा गया तो ठीक नहीं होगा. इस लेकर मैंने 7 जुलाई को इसकी लिखित शिकायत कुलपति, प्रति कुलपति और रजिस्ट्रार से की. रजिस्ट्रार ने 10 जुलाई को मुझे बुलाकर सारी बातों से अवगत हुए.

उन्होंने यह भी बताया कि इसे लेकर मैं काफी टेंशन में हूं. यदि कुलपति से इंसाफ नहीं मिला तो मैं आगे की कार्रवाई के लिए एसपी से गुहार लगाऊंगा. इधर मुंगेर यूनिवर्सिटी में अराजक स्थिति को लेकर लोगों ने चिंता जताई है. वहीं इस संबंध में डीएसडब्लू से संपर्क करने की कोशिश की गई, लेकिन बात नहीं हो सकी.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*