पटना AIIMS में काम पर लौटे डॉक्टर, इमरजेंसी से लेकर चैंबरों में तैनात होंगे सुरक्षा गार्ड

Patna AIIMS

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क : पटना एम्स में सोमवार की सुबह से ही माहौल गरम था. डॉक्टरों ने कार्य बहिष्कार करने की घोषणा कर रखी थी. कहा जा रहा था कि डॉक्टरों की डिमांड को न प्रशासन सुन रहा था और न ही सरकार ही उस पर ध्यान दे रही थी. इससे मरीजों की स्थिति खराब हो रही थी. इलाज करा रहे मरीजों के अटेंडेंट को भी परेशानी हो रही थी. लेकिन अब राहत भरी खबर है. कार्य बहिष्कार पर गये डॉक्टर काम पर लौट आए हैं.

बताया जाता है कि डॉक्टरों की डिमांड को मान ली गई है. उनकी सुरक्षा को लेकर प्रशासन की ओर से पटना एम्स में गार्ड मुहैया कराए जाएंगे. जानकारी के अनुसार इमरजेंसी वार्ड में अब सुरक्षा गार्ड तैनात रहेंगे. वहीं डॉक्टरों के चैंबर में भी सुरक्षा गार्डों की तैनाती की जाएगी. इसके बाद डॉक्टर माने और सोमवार की शाम में काम पर लौट आए.

दरअसल आपको याद होगा पिछल माह पटना एम्स में छात्र नेता कन्हैया को लेकर मामला बिगड़ गया था. डॉक्टरों का आरोप था कि इलाजरत एआईएसएफ के सुशील कुमार को देखने आए कन्हैया ने उनके साथ बदतमीजी की. इसके बाद मामला बढ़ा और यह सियासी रंग ले लिया. स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडेय ने भी इस पर कड़ी आपत्ति जताई. इतना ही नहीं, डॉक्टरों की मानें तो इसी तरह के मामले अन्य मरीजों के ​परिजनों के साथ भी होते रहते हैं.

डॉक्टरों का कहना है कि अस्पताल के अंदर इमरजेंसी वार्डों व डॉक्टरों के चैंबरों में सुरक्षा गार्ड के नहीं रहने से किसी तरह की बात होने पर मारपीट की नौबत आ जाती है. इसके बाद सोमवार की सुबह डॉक्टरों ने कार्य बहिष्कार की घोषणा कर दी थी. इससे मरीजों की परेशानी बढ़ गयी थी.

इसकी जानकारी रेसिडेंट एसोसिएशन के अध्यक्ष डॉ विनय कुमार ने खुद दी थी. सुबह में कहा था कि 3 दिन पहले इसे लेकर वे निदेशक को अपनी मांगों को लेकर मेमोरेंडम दिया था. लकिन कोई आश्वासन नहीं मिलने पर रेजिडेंट डॉक्टर कार्य का बहिष्कार करने का फैसला किया था. इसके तहत सभी डॉक्टर अपने अपने विभाग में मौजूद रहेंगे, मगर कार्य नहीं करेंगे, जब तक कि उनकी मांगों को लेकर पर विचार न किया जाए.

बहरहाल एम्स प्रशासन ने डॉक्टरों की मांग मान ली है. अब सुरक्षा गार्डों की तैनाती की बात उसने स्वीकार कर ली है. इमरजेंसी वार्डों और डॉक्टरों के चैंबरों में सुरक्षा गार्डों की तैनाती के आश्वासन का स्वागत करते हुए रेजिडेंट डॉक्टर काम पर लौट आए हैं.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*