डॉ विष्णुदेव नारायण सिन्हा का निधन होम्योपैथिक जगत के लिए अपूरणीय क्षति

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क :  मुंगेर के लब्ध प्रतिष्ठित होम्योपैथिक चिकित्सक डॉ विष्णुदेव नारायण सिन्हा के आकस्मिक निधन पर श्रद्धांजलि सभा की गई. जिला चित्रगुप्त समिति के कैंपस आयोजित श्रद्धांजलि सभा में दिवंगत डॉ सिन्हा के चित्र पर माल्यार्पण किया गया. वक्ताओं ने उन्हें समाजसेवी बताया तथा कहा कि डॉ सिन्हा के निधन से चिकित्सकीय समाज में अपूरणीय क्षति हुई है. डॉ सिन्हा का निधन तीन अगस्त को हुआ था.

वे मुंगेर के ख्यातिप्राप्त होम्योपैथिक चिकित्सक स्व डॉ० कालीपद सरकार, डॉ अम्बो बाबू, डॉ० हरिमोहन केशरी आदि के समकालीन थे। इतना ही नहीं, वे 1963 से 1994 तक जिला परिषद मुंगेर में चिकित्सा पदाधिकारी के रूप में भी तैनात रहे. उन्होंने ‘हैनिमैन रिलिफ मिशन’ नामक संस्था की स्थापना कर समाज के गरीब एवं वंचित लोगों का मुफ्त इलाज किया.



बता दें कि डॉ विष्णुदेव नारायण सिन्हा 87 वर्ष के थे तथा अपने पीछे पत्नी, चार पुत्र, एक पुत्री, पुत्रवधू, दामाद, पोते-पोतियों, नाती-नातिन से भरा-पूरा परिवार छोड़ गए.

होम्योपैथिक चिकित्सा के क्षेत्र में उनके प्रगाढ़ अध्ययन, गहरी समझ एवं विशाल कार्य अनुभव पुराने एवं असाध्य रोगियों के लिए संजीवनी थी. वे बोरिक के मेटेरिया मेडिका को भागवत गीता की तरह अपने जीवन में अपनाए हुए थे. इसे वे हमेशा अपने सिरहाने में रखते थे.

संपूर्ण बोरिक मेटेरिया मेडिका डॉ सिन्हा को मुंहजबानी याद था. वे बड़े बेबाकी एवं पूर्ण आत्मविश्वास के साथ कहते थे कि फलां पेज में फलां बीमारी संबंधित दवाई का वर्णन देखा जा सकता है. वे कई वर्षों तक जिला चित्रगुप्त समिति, मुंगेर के अध्यक्ष पद पर अपनी सेवाएं दीं तथा अखिल भारतीय कायस्थ महासभा के भी सक्रिय सदस्य रहे.

श्रद्धांजलि सभा में प्रो० श्यामदेव कुमार सिन्हा, नवीन कुमार सिन्हा, डॉ (प्रो) श्यामदेव कुमार सिन्हा, डॉ (प्रो ) कमल कुमार सिन्हा, प्रकाश नारायण, राजेश नंदकिलियार, मुकेश कुमार सिन्हा, प्रणव कुमार, कामेश्वर प्रसाद, ज्ञानेंद्र पिंटू आदि मौजूद रहे.