कर्नाटक में शुरू हो गया राजनीति का ‘नाटक’, इस्तीफा देकर रो पड़े सीएम येदियुरप्पा; नए नाम पर दिल्ली में तेज हुई हलचल

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क : कर्नाटक में फिर राजनीति का नाटक शुरू हो गया. मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा ने इस्तीफे का ऐलान कर दिया है. वे इसकी घोषणा करते हुए रो पड़े. इसे अब संयोग कहें या कुछ और, आज ही येदियुरप्पा के कार्यकाल के दो साल पूरे हुए हैं. वे चौथी बार कर्नाटक के मुख्यमंत्री बने थे. लेकिन इस बार भी उनका कार्यकाल पूरा नहीं हो सका और उन्हें इस्तीफा देना पड़ा. जब तक नए नाम पर मुहर नहीं लगती है, तब तक वे कार्यकारी सीएम के रूप में बने रहेंगे. वहीं, मुख्यमंत्री पद के लिए नए नामों पर चर्चा तेज हो गई है. इसे लेकर दिल्ली में हलचल भी बढ़ गई है.

बीएस येदियुरप्पा ने इस्तीफे की घोषणा करते हुए कहा कि मैं हमेशा अग्निपरीक्षा से गुजरा हूं. कुछ ही देर बाद उन्होंने राजभवन पहुंचकर गवर्नर को इस्तीफा सौंप दिया. उनका इस्तीफा मंजूर भी कर लिया गया है. हालांकि, नए मुख्यमंत्री के ऐलान तक वे कार्यकारी मुख्यमंत्री बने रहेंगे. उन्होंने यह भी कहा कि उन पर हाईकमान का कोई प्रेशर नहीं है. मैंने खुद इस्तीफा दिया. मैंने किसी नाम को नहीं सुझाया है. पार्टी को मजबूत करने के लिए काम करूंगा. कर्नाटक की जनता की सेवा का मौका देने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृह मंत्री अमित शाह का शुक्रिया.

दिल्ली में चल रही हलचल को लेकर कहा जा रहा है कि नए मुख्यमंत्री के रूप में कोई लिंगायत समुदाय के नेता ही हो सकते हैं. जबकि कुछ मीडिया रिपोर्ट में दावा किया जा रहा है कि बीजेपी इस बार कुछ नया गेम प्लान कर सकती है. इस बार वह गैर-लिंगायत पर दांव खेल सकती है. नए मुख्यमंत्री के रूप में कई नामों पर मंथन चल रहा है. उनमें पहला नाम है बसवराज बोम्मई का. इनके अलावा विश्वेश्वरा हेगड़े कगेरी, एमआर निरानी व प्रहलाद जोशी के नाम पर विचार किए जा सकते हैं. इस बीच बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा ने कर्नाटक प्रभारी अरुण सिंह से फोन पर बात की है.