पप्पू यादव के संघर्ष और जन दबाव के कारण ही सुशांत सिंह राजपूत मामले की जांच सीबीआई से कराने की सिफारिश की गई : एजाज अहमद

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क: जन अधिकार पार्टी लोकतांत्रिक के राष्ट्रीय प्रधान महासचिव एजाज अहमद ने फिल्म स्टार एवं बिहार के होनहार कलाकार सुशांत सिंह राजपूत के मौत मामले की सच्चाई को सामने लाने के लिए उनके परिजन के अनुरोध तथा डे फर्स्ट से पप्पू यादव की मांग पर बिहार सरकार द्वारा सीबीआई जांच की सिफारिश को स्वागत योग्य कदम बताया. एजाज अहमद ने कहा कि इससे सभी तरह के तथ्यों और सच्चाई को सामने लाने में सीबीआई सफल होगा, ऐसा बिहार वासियों को उम्मीद है.


आगे उन्होंने कहा कि 14 जून को ही उनके पिता और परिजन से मिलने के बाद सबसे पहले और शुरू दिन से ही पप्पू यादव ने सीबीआई जांच की मांग की थी. इसके लिए अनवरत संघर्ष और आंदोलन का कार्यक्रम भी चला रहे थे. साथ ही साथ जन आंदोलन का दबाव बनाकर राज्य की सत्ता पक्ष और विपक्ष को इस मामले पर एकजुट होकर बिहार के होनहार कलाकार सुशांत सिंह राजपूत के आत्महत्या के मामलों की सच्चाई को सबके सामने तथ्यों के साथ लाने की मांग की थी. क्योंकि इस मामले में पहले से ही शंका था कि एक बड़ी साजिश हुई है और इस साजिश का पर्दाफाश होना भी अति आवश्यक है.




एजाज अहमद ने केंद्र सरकार एवं महाराष्ट्र सरकार से अविलंब इस मामले में सीबीआई जांच की सिफारिश को मान लेने और सच्चाई को लोगों के सामने लाने की अपील की है. क्योंकि इस तरह के मामले मे आज जैसी राजनीति हो रही है यह कहीं ना कहीं उस शंका को बल मिल रहा है , जिसके प्रति पप्पू यादव ने पहले दिन से ही कहना शुरू कर दिया था कि इस आत्महत्या में कोई बड़ी साजिश मालूम होती है और इसमें बड़े लोग शामिल है.

उन्होंने कहा कि आज बिहार सरकार की सिफारिश से उनकी बातों से अक्षरश: साबित हो रहा है पार्टी का संकल्प है कि किसी भी परिस्थिति में सुशांत सिंह राजपूत के परिवार को न्याय दिलाने के लिए पप्पू यादव के नेतृत्व में केंद्र और महाराष्ट्र पर दबाव बनाने के लिए संघर्षों जन आंदोलन करना पड़ेगा तो किया जाएगा लेकिन इस मामले में न्याय की परिधि में उन सारे दोषियों को लाया जाएगा जो इस मामले में शामिल है.