Nitish vs Sharad : तीर पर हो गई पूरी सुनवाई, अब फैसले का इंतजार

File photo

नई दिल्ली : चुनाव आयोग ने जनता दल यूनाइटेड में चल रहे ‘तीर’ चिन्ह को लेकर झगड़ा मामले में सुनवाई पूरी कर ली है. इस मामले में आज बुधवार 15 नवंबर को चुनाव आयोग ने लगातार तीसरे दिन सुनवाई की है. इस दौरान जदयू के दोनों गुटों के नेता मौजूद थे.

मिली जानकारी के अनुसार दिल्ली में जदयू के शरद गुट और नीतीश गुट के नेता आज बुधवार को भी सुनवाई के दौरान मौजूद रहे. शरद गुट की ओर से वकील कपिल सिब्बल ने आयोग को बताया कि उन्होंने चुनाव चिन्ह को लेकर अपनी आपत्तियां पहले दर्ज कराई हैं, जिसका जवाब नीतीश कुमार गुट की ओर से नहीं दिया गया है. दोनों गुटों की बातें आज सुनने के बाद आयोग ने अपने फैसले को सुरक्षित कर लिया है. सुनवाई के बाद बाहर आये दोनों गुटों के नेताओं ने सुनवाई को सकारात्मक बताया है और अपनी-अपनी जीत का दावा किया है.

eci
प्रतीकात्मक फोटो

सुनवाई के बाद शरद गुट के अरुण श्रीवास्तव ने पत्रकारों को बताया कि उन्होंने अपनी साड़ी बातें आयोग के समक्ष रखी हैं, और उम्मीद है कि फैसला उनके पक्ष में ही आएगा. उधर नीतीश गुट की ओर से पार्टी महासचिव केसी त्यागी ने भी ऐसे ही दावे किये हैं. नीतीश गुट की ओर से आज सुनवाई में केसी त्यागी के साथ, आरसीपी सिंह और लालन सिंह इत्यादि नेता मौजूद थे.

चुनाव आयोग के फैसले के संबंध में पोलिटिकल जानकारों का मानना है कि अगर आयोग ने जदयू के चुनाव चिन्ह ‘तीर’ को फ्रीज भी कर दिया, तो ये शरद गुट की बड़ी जीत होगी. बता दें कि आगामी गुजरात चुनावों को लेकर शरद गुट ने इस सुनवाई का फैसला जल्द से जल्द किये जाने की मांग की है. बताया जा रहा है कि चुनाव आयोग अगले दो से तीन दिनों में इस मामले में अपना फैसला सुना देगा.

दरअसल जदयू के चुनाव चिह्न तीर पर किसका हक होगा, नीतीश गुट का या शरद गुट का? इसी सवाल में चुनाव आयोग भी उलझा हुआ है. यह लड़ाई तब से चल रही है, जब से बिहार में महागठबंधन से जदयू अलग हुआ है. तब से बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से जदयू के ही सांसद शरद यादव काफी खफा हैं और आर-पार की लड़ाई लड़ रहे हैं. लेकिन गेंद चुनाव आयोग के पाले में है.

गौरतलब है कि बिहार में महागठबंधन टूटने और नीतीश कुमार के भाजपा के साथ सरकार बनाने के बाद से शरद यादव ने अलग राह पकड़ ली है. वे नीतीश कुमार के खिलाफ बिहार में लगातार दौरा कर रहे हैं. पिछले सप्ताह शरद यादव ने यह भी कहा ​था कि समय पर पता चल जायेगा कि असली जदयू कौन है. मामला उस समय ज्यादा गरमा गया, जब शरद यादव मना करने के बाद भी राजद की रैली में मंच पर जा पहुंचे.

About Anjani Pandey 829 Articles
I write on Politics, Crime and everything else.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*