एडवांटेज डायलॉग : 20 और 21 मई को होने वाला एपिसोड होगा पावर पैक्ड, ब्रह्मा कुमारी शिवानी और मनोज मुंतशिर शुक्ला रखेंगे अपनी बात

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क : इस सप्ताह एडवांटेज ग्रुप द्वारा कराया जा रहा ‘एडवांटेज डायलॉग’ बहुत ही महत्वपूर्ण होने वाला है. एडवांटेज डायलॉग का यह सप्ताह बहुत बड़ा और पावर पैक्ड होगा, जिसमें कल बुधवार 20 मई को दिन के 2.00 बजे से 3.00 बजे तक अंतर्राष्ट्रीय ख्याति की वक्ता ब्रह्मा कुमारी शिवानी तथा गुरूवार 21 मई को शाम के 7.30 बजे से 8.30 बजे तक बॉलीवुड के प्रसिद्ध गीतकार और लेखक मनोज मुंतशिर शुक्ला डिजिटल प्लेटफार्म जूम (ZOOM) तथा फेसबुक पर लॉकडाउन के दौरान मन को शांति और सुकून प्रदान करने वाली बातें करेंगे.

ब्रह्मा कुमारी शिवानी से एनडीटीवी की मीडिया एक्सपर्ट नगमा सहर तथा मनोज मुंतशिर शुक्ला से मीडिया एक्सपर्ट रत्ना पुरकायस्थ बात करेंगी इस कार्यक्रम के बाद अब इस माह मई में एडवांटेज डायलॉग के कोई कार्यक्रम नहीं होंगे, अगला एपिसोड जून में होगा. अगले सप्ताह होने वाली पवित्र पर्व ईद को लेकर एडवांटेज डायलॉग के कार्यक्रम को स्थगित किय गया है. इस बीच 30 और 31 मई को ईद की सौगात के रूप में इंटरनेशनल ई-मुशायरा का आयोजन एडवांटेज लिटरेरी फेस्टिवल की ओर से किया जा रहा है जो एडवांटेज फेस्टिवल का चौथा एपिसोड होगा. इसमें देश-विदेश के बड़े-बड़े नामचीन शायर भाग लेंगे.

अंतर्राष्ट्रीय ख्याति की वक्ता ब्रह्मा कुमारी शिवानी

एडवांटेज ग्रुप के संस्थापक और सीईओ, तथा एडवांटेज लिटरेरी फेस्टिवल आयोजित करने वाली एडवांटेज सपोर्ट (एडवांटेज की सीएसआर कंपनी) के सचिव खुर्शीद अहमद ने बताया कि यह सप्ताह पावर पैक्ड है, इसलिए यह सप्ताह काफी महत्वपूर्ण है. इसमें वीके शिवानी बहन अंतर्राष्ट्रीय वक्ता हैं जिनके 30 लाख अनुयायी (फॉलोवर) हैं. शिवानी बहन का जन्म 31 मई 1972 को पुणे में हुआ था तथा 23 वर्ष की अवस्था में उन्होंने 1995 में ब्रह्मा कुमारी ज्वाइन किया. ध्यान मग्न रहने के क्रम में कहा जाता है कि उन्हें भगवान का दर्शन हुआ था. यह उच्च कोटि की वक्ता हैं जिसका लाभ लोग उठा सकते हैं.

प्रसिद्ध गीतकार और लेखक मनोज मुंतशिर शुक्ला

उन्होंने कहा कि बॉलीवुड कलाकार मनोज मुंतशिर शुक्ला एडवांटेज लिटरेरी फेस्टिवल के तीसरे एपिसोड में पटना के प्रेमचंद रंगशाला में 2019 के नवम्बर माह में अपना कार्यक्रम कर चुके हैं. उस समय भी इनके साथ मीडिया एक्सपर्ट डॉ रत्ना पुरकायस्थ ने बात की थी और अब इस बार भी वही उनसे बातें करेंगी. उन्होंने कहा कि पटना के लोगों की विशेष मांग पर मनोज मुंतशिर को एडवांटेज डायलॉग में बुलाया गया है. वे अब तक बॉलीवुड के लिए कई गाने लिख चुके हैं जिनमें तेरी गलियां, तेरे संग यारा, कौन तुझे यूं, मैं फिर भी तुझको चाहूंगा, मेरे रश्के कमर, तेरी मिट्टी आदि शामिल हैं. वे आशिकी-2 तथा बाहुबली फिल्मों के लिए भी गाने लिख चुके हैं. इसके अलावा अक्षय कुमार की केसरी, रूस्तम, एमएसधोनी, एक विलेन, हॉफ गर्लफ्रेंड तथा बादशाह के लिए भी गाने लिख चुके हैं.

एडवांटेज ग्रुप के संस्थापक और सीईओ खुर्शीद अहमद

उन्होंने कहा कि ईद के बाद पुनः जून से एडवांटेज डायलॉग के कार्यक्रम शुरू हो जाएंगे. एडवांटेज डायलॉग के कार्यक्रम में भाग लेने के लिए [email protected] पर रजिस्ट्रेशन कराया है रजिस्ट्रेशन निःशुल्क होगा. एडवांटेज डायलॉग के कार्यक्रम में अब तक बड़े-बड़े लोग भाग ले चुके हैं जिनमें डॉ एए हई, रौशन अब्बास, सैयद सुल्तान अहमद, कोका कोला के वाइस प्रेसिडेंट इश्तेयाक अमजद, पूर्व क्रिकेटर सैयद सबा करीम, गूंज के संस्थापक अंशु गुप्ता के नाम प्रमुख हैं. खुर्शीद अहमद ने कहा कि अब तक 24 में से एडवांटेज डायलॉग के 16 एपिसोड को 8 लाख लोगों ने देखा है तथा 15 हजार लोगों ने शेयर किया है. 16 एपिसोड में कुल उपस्थिति 2200 तथा कुल शेयर 8000 है.

उन्होंने कहा कि ईद के मौके पर उर्दू की अदब और तहजीब को देखते हुए 30 और 31 मई को डिजिटल प्लेटफार्म पर होने वाला इंटरनेशनल ई-मुशायरा एडवांटेज लिटरेरी फेस्टिवल का चौथा एपिसोड होगा जिसमें लखनऊ के मुनव्वर राणा, दिल्ली की शबीना अदीब, अमेरिका से फरहत शहजाद और डॉ नौशा असरार, अबुधाबी से सयद सरोस आसिफ, दिल्ली से शारीक कैफी, भोपाल से नुसरत मेहदी भाग लेंगी. यह कार्यक्रम भी जूम (ZOOM) पर होगा जो 7.30 बजे से 9.00 बजे तक चलेगा. इस कार्यक्रम को देखने के लिए लोगों को [email protected] पर रजिस्ट्रेशन कराने के लिए 500 रूपए डोनेशन देना होगा. यदि काई ज्यादा राशि देना चाहे तो दे सकता हैं. रजिस्ट्रेशन से प्राप्त राशि जनहित के काम पर खर्च की जायेगी.

खुर्शीद अहमद ने कहा कि मुशायरा का यह कार्यक्रम काफी बड़ा है और इसमें भाग लेने के लिए अभी से रजिस्ट्रेशन कराने का सिलसिला शुरू हो गया है. इस कार्यक्रम को सफल बनाने के लिए एडवांटेज लिटरेरी फेस्टिवल कोर कमेटी के सदस्य फैजान अहमद, ओबेदुर रहमान, फहीम अहमद, अहमद साद, एजाज अहमद, अनवारूल होदा, शिव चतुर्वेदी, अनवर जमाल, शोमला, सचिव खुर्शीद अहमद तथा अध्यक्ष डॉ. ए.ए. हई काफी मेहनत कर रहे हैं.