बिहार में भी लागू हो NRC, सीमावर्ती जिलों में घुसपैठ से फ़ैल रही अशांति : किशोर कुमार मुन्ना

MUNNA
प्रेस कांफ्रेंस करते पूर्व विधायक किशोर कुमार मुन्ना

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क : देश के नार्थ-ईस्ट इलाके में कथित बांग्लादेशी घुसपैठियों को निकाले जाने के सवाल पर अब बिहार में भी सियासत शुरु हो गई है. पूर्व विधायक किशोर कुमार मुन्ना बिहार बचाओ संघर्ष समिति के माध्यम से राज्य में भी राष्‍ट्रीय नागरिकता पंजीका (NRC) लागू करने की मांग कर रहे हैं. उन्होंने आज पूर्णिया में एक प्रेस कांफ्रेंस कर घुसपैठ प्रभावित बिहार के 14 सीमावर्ती जिलों में बिहार बचाओ संघर्ष समिति द्वारा आगामी 24 अक्टूबर को धरना देने की बात कही. उन्होंने कहा कि किशनगंज, कटिहार, सुपौल, पूर्णिया, सहरसा, मधुबनी, दरभंगा, बेतिया, मोतिहारी, शिवहर, सीतामढ़ी, अररिया और मधेपुरा आदि जिले घुसपैठिये के गढ़ बन गए हैं, जिस कारण जनसंख्‍या में असंतुलन होने की वजह से समाज में अशांति बढ़ रही है.

पूर्व विधायक ने कहा कि देश का हिंदु बहुमत न केवल सभी पंथों के फलने–फूलने की गारंटी देता है, बल्कि इस देश के लोकतांत्रिक स्‍वरूप को बचाये रखने के प्रति भी प्रतिबद्धता को प्रकट करता है. देश के प्रमुख व्‍यक्तियों ने भी घुसपैठ की समस्‍या को देश की सबसे बड़ी समस्‍या माना है. इसलिए NRC लागू करने और जनसंख्‍या नियंत्रण कानून बनाने की मांग हम करते हैं.

नीतीश बोले – बिहार की महिलायें समय से चुका रही कर्ज, कुछ लोग बैंक से लेकर विदेश भाग रहे

उन्होंने कहा कि बांग्‍लादेशी या रोहिंग्या घुसपैठिये मुक्‍त रूप से तस्‍करी, आतंकवादी हथियार की खरीद फरोख्‍त, जाली नोटों से भारतीय अर्थव्‍यवस्‍था को कमजोर करने, नशीले पदार्थ का कारोबार, रिलिजियस डेमोग्राफी के तहत जनसंख्‍या का असंतुलन तथा अनैतिक गतिविधियों, श्रद्धा के केंद्रों पर हमले करते रहेंगे, तो सेना क्‍या करेगी? खुफिया विभाग ने बिहार के 36 संदिग्‍ध आतंकियों की सूची एंटी टेरिरिस्‍ट सेल को सौंपते हुए कहा कि ये छद्म रूप धारण करके देश को दहला सकता है. मुंगेर जिले में मो. इमरान, मो. शमशेर, इमरान की बहन रिजवान और हजारीबाग से तौफीक आलम की निशानदेही पर राज्‍य की पुलिस ने 20 एके 47 राइफल बरामद की, जिसे आतंकी कनेक्‍शन मान कर एनआईए ने जांच शुरू कर दी है.

पूर्व विधायक ने कहा कि ये लोग इस देश की एक‍ता, अखंडता, सामाजिक समरसता और अर्थव्‍यवस्‍था को खत्‍म करना चाहते हैं. इसलिए इस ज्‍वलंत मुद्दे को लेकर बिहार बचाओ संघर्ष समिति राष्‍ट्र एवं राज्‍य को बचाने के लिए राष्‍ट्रीय नागरिकता पंजीका (NRC) लागू करने की आवश्‍यकता महसूस करती है. इस समस्‍या के लिए जनसंख्‍या असंतुलन भी जिम्‍मेवार है. इस पर अंकुश लगाने के लिए जनसंख्‍या नियंत्रण कानून बनाने की नीति सरकार को बनानी चाहिए.

भाजपा नेता ने कहा कि भारतीय मुस्लिम समाज को अपने स्‍वार्थों से उपर उठकर घुसपैठ के खिलाफ कड़े कदम उठाने होंगे. इसके अलावा इस विकट समस्‍या को अंतरराष्‍ट्रीय स्‍तर पर अवगत कराने की जरूरत है. बिहार के सीमावर्ती क्षेत्रों में बांग्लादेशी घुसपैठियों का मौन हमला एवं ISI, PFI की सक्रियता के कारण आज यह प्रदेश अंतरराष्ट्रीय आतंकवादियों का गढ़ बन गया है. तुष्‍टीकरण की राजनीति ने इन राष्ट्रद्रोही तत्वों को बिहार की धरती पर फलने-फूलने का अवसर प्रदान किया गया है.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*